Gujarat Exclusive > गुजरात > कांग्रेस का आरोप, ‘राफेल’ से भी बड़ा किया है गुजरात की बीजेपी सरकार ने घोटाला

कांग्रेस का आरोप, ‘राफेल’ से भी बड़ा किया है गुजरात की बीजेपी सरकार ने घोटाला

0
544

गांधीनगर: गुजरात सरकार की ओर किसानों को मिलने वाली फसल बीमा की सहायता ना मिलने की वजह से गुजरात के किसानों में असंतोष फैला हुआ है, वहीं दूसरी तरफ राज्य सरकार फसल बीमा के लिए कितना रकम देने का फैसला किया है उसे जारी करने में आनाकानी कर रही है. ऐसे में आज गुजरात कांग्रेस ने एक प्रेस कान्फ्रेंस का आयोजन कर फसल बीमा के गणित को समझाते हुए रुपाणी सरकार पर कई सवाल खड़े किये. इतना ही नहीं कांग्रेस ने फसल बीमा के नाम पर होने वाले घोटाले को राफेल से भी बड़ा घोटाला करार दिया.

अहमदाबाद में स्थित राजीव गांधी भवन में प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए, गुजरात किसान कांग्रेस के अध्यक्ष पाल अम्बालिया और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अमित चावड़ा ने कहा कि गुजरात सरकार ने फसल बीमा में 90 प्रतिशत से अधिक भ्रष्टाचार किया है. इतना ही नहीं फसल बीमा के नाम पर पैसे को इधर-उधर करने का भी आरोप लगाया गया. सरकार के साथ खेत भवन अधिकारी भी इस घोटाले में शामिल हैं. फसल बीमा के नाम पर सरकार ने प्रति हेक्टेयर 61 हजार रुपया का घपला किया है. कांग्रेस ने आरोप लगाते हुए कहा कि पार्टी के पास सर्वे नम्बर के साथ सबूत है कि जूनागढ़ के दो गांव में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार किया गया है.

प्रेस कान्फ्रेंस में कांग्रेस ने सरकार फसल बीमा के नाम पर कितना रुपया आंवटित किया है इस आकड़े को जारी करने की एक बार फिर मांग की गई. इतना ही नहीं कांग्रेस ने कहा कि इससे पहले भी फसल बीमा को लेकर सरकार ने क्या कुछ किया इसकी जानकारी भी सरकार नहीं दे रही है. इतना ही नहीं बल्कि आरटीआई करने के बाद भी जानकारी नहीं मुहैया करवाई जा रही है. जिससे साफ हो जाता है कि सरकार जानकारी को छुपाने की कोशिश कर रही है.अगर सरकार जानकारी को लोगों के सामने रखेगी तो भ्रष्टाचार उजागर हो जाएगा.

कांग्रेस ने आरोप लगाते हुए कहा कि गुजरात सरकार अपने भ्रष्टाचार को छिपाने के लिए फसल बीमा के हिसाब को भी छिपा रही है. जिससे साफ हो जाता है कि फसल बीमा के नाम पर व्यापक भ्रष्टाचार किया गया है. इतना ही नहीं बल्कि बीमा कंपनियों के काले करतूत को भी छुपाने की कोशिश मुख्यमंत्री और कृषि मंत्री कर रहे हैं जिसकी वजह से सबसे ज्यादा गुजरात के किसानों को नुकशान हो रहा है.