Gujarat Exclusive > देश-विदेश > कोरोना कहर: 40 फीसद से ज्यादा लोगों ने मकान खऱीदने का प्लान किया रद्द, रियल एस्टेट कारोबार को झटका

कोरोना कहर: 40 फीसद से ज्यादा लोगों ने मकान खऱीदने का प्लान किया रद्द, रियल एस्टेट कारोबार को झटका

0
789

कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Epidemic) की वजह से मकान की कीमतों में गिरावट आने की आशंका बढ़ गई है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक करीब 90 फीसदी मकान खरीदारों का कहना है कि वायरस की वजह से लागू लॉकडाउन से मकान की कीमतों में गिरावट आएगी. रियल एस्टेट प्लेटफॉर्म 99acres के एक सर्वे के अनुसार लॉकडाउन से पहले जो व्यक्ति घर खरीदने की कोशिश में लगे हुए थे वो अब इस योजना को टाल सकते हैं. सर्वे के मुताबिक करीब 40 फीसदी लोगों के द्वारा घर खरीदने की योजना को टाला जा सकता है.

सर्वे में करीब 1,761 लोगों का सैंपल साइज लिया गया

सर्वे के मुताबिक 56 फीसदी अनिश्चितता और 30 फीसदी वित्तीय कारणों की वजह से घर खरीदने की योजना को टाल सकते हैं. सर्वे में करीब 1,761 लोगों का सैंपल साइज लिया गया है. इस सर्वे में दिल्ली-NCR, मुंबई, कोलकाता, हैदराबाद, बेंगलुरू, पुणे, चैन्नई, चंडीगढ़, अहमदाबाद और लखनऊ के लोगों को शामिल किया गया है. सर्वे के मुताबिक कोरोना वायरस से पहले 60 फीसदी लोग घर खरीदने की तैयारी कर रहे थे वो अभी भी 1 साल के भीतर घर खरीदना चाह रहे हैं.

सर्वे के मुताबिक रियल एस्टेट खरीदारों में से एक बड़े हिस्से ने कोरोना वायरस महामारी के बाद घरों की कीमतों में सुधार की उम्मीद भी लगाई है. सर्वे में 31 फीसदी लोग अभी भी रियल एस्टेट सेक्टर को लेकर आशान्वित हैं और उनका मानना है कि इस सेक्टर में निवेश सबसे बेहतर विकल्प है. रियल एस्टेट के बाद फिक्स्ड डिपॉजिट (24 फीसदी), सोना (24 फीसदी) और शेयर बाजार (21 फीसदी) निवेश के लिहाज से बेहतर सेक्टर हैं. सर्वे में घर खरीदार रेडी टू मूव घरों को लेकर ज्यादा उत्साहित दिखाई पड़े हैं.

दर्दनाक मौत: दिल्ली से पैदल चलकर अलीगढ़ पहुंचे मजदूर, सड़क हादसे में तीनों की मौत