Gujarat Exclusive > देश-विदेश > भारत में निकल गया कोरोना का पीक लेकिन दूसरी लहर संभव: सरकारी पैनल

भारत में निकल गया कोरोना का पीक लेकिन दूसरी लहर संभव: सरकारी पैनल

0
328

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामलों और मौतों में पिछले कुछ दिनों से कमी देखने को मिल रही है. इस बीच सरकार की ओर से नियुक्‍त वैज्ञानिकों की एक पैनल ने रविवार को देश में कोरोना महामारी को लेकर जानकारी साझा की. पैनल का मानना है कि भारत में अब कोरोना वायरस संक्रमण का पीक (Corona Peak) गुजर चुका है.

केंद्र सरकार द्वारा नियुक्त एक सरकारी पैनल ने कहा है कि भारत कोरोना के सर्वोच्च स्तर (Corona Peak) को पार कर गया है. पैनल का दावा है कि फरवरी 2021 तक यह महामारी खत्म हो जाएगी.

यह भी पढ़ें: कोरोना काल में त्योहार! स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- केरल ने लापरवाही से चुकाई बड़ी कीमत

हालांकि पैनल ने कहा कि देश में महामारी की दूसरी लहर (Corona Peak) की आशंका को खारिज नहीं किया जा सकता है और इस कारण फरवरी 2021 में भारत में कोरोना के सक्रिय केस 1.06 करोड़ से अधिक होने की आशंका है.

सर्दियों में आ सकती है दूसरी लहर

न्यूज एजेंसी पीटीआई से पैनल में शामिल नीति आयोग के सदस्‍य डॉ वीके पॉल ने कहा कि पिछले तीन हफ्ते से देश में भले ही कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामलों और इससे होने वाली मौतों में कमी आ रही है. लेकिन सर्दियों के कोरोना की दूसरी लहर से इनकार नहीं किया जा सकता है.

लॉकडाउन नहीं लगता तो 25 लाख लोग मरते

सरकार की ओर से गठित वैज्ञानिकों की इस पैनल का कहना है कि अगर भारत में मार्च में कोरोना के बढ़ते मामलों (Corona Peak) पर रोक लगाने के लिए लॉकडाउन न लगाया जाता तो देश में अब तक कोविड-19 से होने वाली मौतों का आंकड़ा 25 लाख पार कर जाता. लेकिन लॉकडाउन के कारण फायदा मिला और अब तक देश में 1.14 लाख मौतें हुई हैं.

उनके मुताबिक भारत अब कहीं बेहतर स्थिति में है लेकिन अभी लंबा रास्ता तय करना है क्योंकि 90 प्रतिशत लोग अब भी कोरोना वायरस से आसानी से संक्रमित हो सकते हैं. यह पूछे जाने पर कि क्या सर्दी के मौसम में भारत में संक्रमण की दूसरी लहर आ सकती है, पॉल ने कहा कि सर्दी की शुरुआत होते ही यूरोप के देशों में संक्रमण के मामले बढ़ते दिखाई दे रहे हैं.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें