Gujarat Exclusive > गुजरात > कोरोना रिपोर्ट -12: अहमदाबाद के 20 लाख ज्वैलर्स पर आर्थिक संकट, सरकार से राहत पैकेज की उम्मीद

कोरोना रिपोर्ट -12: अहमदाबाद के 20 लाख ज्वैलर्स पर आर्थिक संकट, सरकार से राहत पैकेज की उम्मीद

0
3573

दीपक मसला, अहमदाबाद: महिलाओं की खूबसूरती में चार चांद लगाने वाले सोने और चांदी के गहनों का कारोबार करने वाले लोगों पर अब आर्थिक संकट का बादल मंडराने लगा है. राज्य और अहमदाबाद शहर के छोटे- बड़े ज्वैलर्स और बुलियन को लेकर 20 हजार से ज्यादा ज्वैलर्स वित्तीय संकट जूझ रहे हैं. शोरूम के कर्मचारी, आभूषण को बनाने वाले कारीगर और सेल्समैन का वेतन, और बैंक का ओडीसीसी का ब्याज और लोन का ब्याज, बिना किसी व्यापार के भुगतान कर व्यापारी परेशानी हो गए हैं. जिसके बाद ज्वैलर्स सरकार से राहत पैकेज की उम्मीद लगा बैठे हैं.

लॉकडाउन का प्रभाव किसान, दिहाड़ी मजदूर और आम आदमियों के बाद अब ज्वैलर्स बाजार के कर्मचारी और कारीगरों पर भी पड़ने लगा है. एसोसिएशन कारीगरों को अनाज किट और कर्मचारियों को वेतन देने की दावा कर रही है. ज्वैलर्स एसोसिएशन के उपाध्यक्ष जिगर सोनी का कहना है कि कर्मचारियों को मार्च का वेतन दिया गया है. लेकिन अगर यही हाल रहा तो ज्वैलर्स की आर्थिक तंगी बढ़ जाएगी. यदि सरकार लॉकडाउन के समय बैंक सीसी और ऑडी ब्याज को माफ करती है साथ ही साथ पुराने लॉन में रेपो दर जैसी कई क्रेडिट कुछ समय के लिए बढ़ा दिया जाए, तो ज्वैलर्स बाजार से जुड़े लोगों को राहत मिलेगी.

माणेकचौक सोना-चांदी ज्वेलरी एसोसिएशन के अध्यक्ष परेश चोकसी ने कहा कि कर्मचारियों और कारीगरों के मार्च का वेतन भुगतान कर दिया गया है और अप्रैल का वेतन भुगतान करने का फैसला किया. अगर वित्तीय संकट में पड़े ज्वैलर्स के बारे में पता चलेगा तो एसोसिएशन जरूर उनकी मदद करेगा. लेकिन अगर ऐसा ही चलता रहा तो हमारी समस्या बढ़ सकती है. सोना-चांदी जीवन से जुड़ी कोई आवश्यक चीज नहीं है, इसलिए सवाल ये उठता है कि हालात सामान्य होने के बाद क्या लोग सोना खरीदेंगे या नहीं?

माणेकचौक होलसेल बुलियन एंड ज्वैलरी एसोसिएशन के अध्यक्ष चिनुभाई चोकसी ने कहा, “तालाबंदी अचानक लागू होने से ज्वेलर्स बाजार बिल्कुल ठप सी गई है.” सोने की कीमतों में लगातार वद्धि हो रही है, ऐसे में सोने की कम कीमत में लिया गया ऑर्डर आज के महंगे भाव में खरीदना हमारे लिए इस मुश्किल वक्त में बड़ी परेशानी साबित हो रही है. कर्मचारी के वेतन का भुगतान कर दिया है लेकिन हम इंतजार कर रहे हैं कि व्यवसाय कब शुरू होगा.

कोरोना रिपोर्ट -11: तालाबंदी के बीच कंस्ट्रक्शन साइट श्रमिकों की दयनीय हालत, 12 लाख लोग प्रभावित