Gujarat Exclusive > हमारी जरूरतें > कोविशील्ड या कोवैक्सीन? सरकार ने किया साफ- पसंद की वैक्सीन चुनने का मौका नहीं

कोविशील्ड या कोवैक्सीन? सरकार ने किया साफ- पसंद की वैक्सीन चुनने का मौका नहीं

0
450

देश में कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) के टीकाकरण की शुरुआत 16 जनवरी से हो रही है. देश के तमाम हिस्सों में टीके को पहुंचाया जा रहा है. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्स को भारत में आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिली है. ऐसे में लोगों के मन में सवाल उठ रहा है कि क्या आम आदमी को अपनी पसंद की कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) चुनने का मौका मिलेगा?

सरकार ने मंगलवार को संकेत दिया कि कोविड-19 का टीका (Corona Vaccine) लेने वालों को मौजूदा आपात स्थिति में इस्तेमाल के लिए मंजूर टीकों में से अपनी पसंद का विकल्प चुनने का मौका नहीं मिलेगा.

यह भी पढ़ें: 16 जनवरी को पीएम मोदी करेंगे कोरोना टीकाकरण का आगाज, को-विन ऐप भी होगी लॉन्च

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा, ”विश्व में कई जगहों पर एक से ज्यादा टीके इस्तेमाल हो रहे हैं लेकिन वर्तमान में किसी भी देश में टीका लेने वालों को अपनी पसंद का विकल्प चुनने का मौका नहीं दिया जा रहा है.”

28 दिनों के अंतराल पर दूसरी खुराक

भूषण ने कहा कि 28 दिन के अंतराल पर टीके (Corona Vaccine) की दूसरी खुराक दी जाएगी और इसका असर 14 दिनों के बाद दिखेगा. उन्होंने कहा, ”इसलिए हम लोगों से कोविड-19 के संबंध में उचित व्यवहार का पालन करने का अनुरोध करते हैं.” भूषण ने कहा कि मंगलवार दोपहर तक निर्धारित राष्ट्रीय और राज्य स्तरीय भंडारण केंद्र तक कोविड-19 टीके (Corona Vaccine) की 54.72 लाख खुराक पहुंचा दी गई है.

कोवैक्सीन की पहली खेप

बता दें कि सभी राज्यों में टीकाकरण (Corona Vaccine) की तैयारियां जारी हैं. भारत बायोटेक की कोरोनावायरस वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ (Covaxin) की पहली खेप हैदराबाद से आज सुबह दिल्ली और 10 अन्य शहरों को भेजी गई. सीरम इंस्टीट्यूट ने अपनी वैक्सीन ‘कोविशील्ड’  की पहली खेप मंगलवार से भेजना शुरू किया था. ‘कोवैक्सीन’ की पहली खेप को एयर इंडिया की फ्लाइट से दिल्ली भेजा गया है. इसमें 80.5 किलोग्राम के तीन बॉक्स हैं. ये दिल्ली सहित देश के तमाम हिस्सों में वैक्सीन पहुंच गई है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें