Gujarat Exclusive > कोरोना वायरस का असर : देश में सभी घरेलू क्रिकेट और फुटबॉल मैचों के आयोजन पर लगी रोक

कोरोना वायरस का असर : देश में सभी घरेलू क्रिकेट और फुटबॉल मैचों के आयोजन पर लगी रोक

0
329

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते दुनिया भर में दहशत का माहौल है. भारत में भी लगातार नए-नए मामले सामने आ रहे हैं जिसका असर खेल प्रतियोगिताओं पर पड़ा है. बीसीसीआई ने अपने सभी घरेलू मैचों कों अगले आदेश तक स्थागित कर दिया है जबकि देश में होने वाले सभी फुटबॉल टूर्नामेंटों पर 31 मार्च तक के लिए रोक लगा दी गई है.

बीसीसीआई ने शनिवार को एक बयान जारी करके बताया कि अगले आदेश तक भारत में होने वाले सभी क्रिकेट टूर्नामेंटों पर रोक लगाई जा रही है. कोरोना वायरस के चलते ही भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच तीन मैचों की वनडे सीरीज भी रद्द कर दी गई थी. बीसीसीआई ने कोरोना वायरस के चलते ही आईपीएल को 29 मार्च से स्थागित कर 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया है.

महिला और पुरुष सहित सभी घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट टले

शनिवार को जारी अपने बयान में बीसीसीआई ने कहा, “कोरोना वायरस के चलते बीसीसीआई ने फैसला किया है कि वह ईरानी कप, सीनियर महिला वनडे नॉक आउट, विज्जी ट्रॉफी, सीनियर महिला वनडे चैलेंज, महिला अंडर-19 वनडे नॉकआउट, महिला अंडर-19 टी-20 लीग, सुपर लीग और नॉकआउट, महिला अंडर-19 चैलेंजर ट्रॉफी, महिला अंडर-23 नॉकआउट, महिला अंडर-23 वनडे चैलेंजर जैसे सभी टूर्नामेंट्स को अगली सूचना तक स्थागित किया जाता है.”

31 मार्च तक देश में फुटबॉल गतिविधियों पर लगी रोक

उधर देशभर में फैले कोरोना वायरस के कारण परिवार एंव कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों का पालन करते हुए अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ (एआईएफएफ) ने देश में सभी तरह की फुटबॉल गतिविधियों को 31 मार्च तक के लिए स्थगित कर दिया है. एआईएफएफ ने शनिवार को एक बयान में इसकी जानकारी दी. इस फैसले के बाद 15 मार्च से शुरू होने वाली एक आई लीग के मैचों को भी निलंबित कर दिया गया है.

खाली स्टेडियम में खेला जाएगा ISL का फाइनल

वहीं शनिवार को गोवा में होने वाले हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) का फाइनल भी बिना दर्शकों के ही बंद दरवाजों में खेला जाएगा और इसकी घोषणा पहले ही की जा चुकी है. एआईएफफ ने कहा, “वह लोगों के स्वास्थ्य और जीवन के महत्व को समझता है और एआईएफएफ कभी इससे समझौता नहीं करेगा. एआईएफएफ अब मार्च के आखिरी सप्ताह में स्थिति की समीक्षा करेगा और फिर इस बारे में संबंधित संगठनों के साथ बातचीत करके कोई फैसला लेगा.”

कोरोना वायरस से मरने वालों के परिजन को मिलेगा 4 लाख का मुआवजा, गृह मंत्रालय ने किया फैसला