Gujarat Exclusive > देश-विदेश > कोरोना पर WHO ने कहा, अभी वायरस के खात्मे की भविष्यवाणी करना जल्दबाजी

कोरोना पर WHO ने कहा, अभी वायरस के खात्मे की भविष्यवाणी करना जल्दबाजी

0
509

कोरोना वायरस का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है और इससे मरने वालों की संख्या में भी इजाफा होता जा रहा है. उधर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की टीम चीन पहुंचकर इसके खात्मे की कोशिशों में जुट गई है. हालांकि WHO के अनुसार चीन में कोरोनावायरस के नए मामलों में कमी आने के बावजूद इसके खात्मे के बारे में अभी भविष्यवाणी करना बहुत जल्दबाजी होगी.

बीबीसी की गुरुवार की रिपोर्ट के अनुसार, डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ट्रेडोस अधनोम घेब्रेयसुस ने कहा, यह महामारी अभी भी किसी भी दिशा में बढ़ सकती है. मालूम हो कि चीन ने स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना वायरस के नए मामलों की जानकारी दी जो पिछले दो हफ्तों में प्रतिदिन के हिसाब से सबसे कम है.

अब तक 1100 से ज्यादा की मौत

वायरस से अब तक 1,100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और 44,600 लोग प्रभावित हो चुके हैं. चीनी प्रशासन की रिपोर्ट के अनुसार, इस वायरस से एक दिन में प्रभावित होने वाले लोगों का सर्वाधिक आंकड़ा पिछले सप्ताह आया था जब एक दिन में 4,000 लोगों के वायरस से प्रभावित होने की खबर आई थी.

हम हल निकाल लेंगे

डब्ल्यूएचओ के आपातकालीन प्रमुख माइकल रेयान ने कहा, मुझे लगता है कि फिलहाल इस बीमारी की शुरुआत, मध्य और अंत के बारे में अनुमान लगाना जल्दबाजी होगी. डब्ल्यूएचओ की मुख्य वैज्ञानिक सौम्य स्वामीनाथन ने संवाददाताओं से कहा, “मुझे लगता है कि हम वैक्सीन खोज निकालेंगे. इसमें कुछ समय लगेगा. कोई वैक्सीन रातभर में नहीं बन जाता.”

अब तक ढाई लाख यात्रियों की हुई स्क्रीनिंग : डॉ. हर्षवर्धन

दुनियाभर में कोरोना वायरस की बढ़ती दहशत के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने गुरुवार को कहा कि देशभर के एयरपोर्ट्स पर अब तक ढाई लाख से अधिक यात्रियों की स्क्रीनिंग हो चुकी है. इसके अलावा भारत चिकित्सा से जुड़ी कुछ सामग्री चीन को भेज रहा है. स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, ‘आज की तारीख तक, 2,51,447 यात्रियों की हवाईअड्डों पर स्क्रीनिंग हो चुकी है. 12 प्रमुख और 65 छोटे बंदरगाहों पर भी स्क्रीनिंग की जा रही है.’ कोरोना वायरस को लेकर उन्होंने कहा कि विदेश मंत्रालय की मदद से हम कुछ चिकित्सा आपूर्ति, उपकरण और अन्य सामग्री चीन को सद्भावना उपाय के रूप में भेज रहे हैं.