Gujarat Exclusive > हमारी जरूरतें > कोरोना वॉरियर्स के बच्चों के लिए MBBS और BDS में रिजर्व होगी सीट 

कोरोना वॉरियर्स के बच्चों के लिए MBBS और BDS में रिजर्व होगी सीट 

0
149

कोरोना महामारी में अपनी जान दांव पर लगाने वाले कोरोना वॉरियर्स (Corona Warriors) को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बड़ी पहल की है. अब कोरोना वॉरियर्स (Corona Warriors) के बच्चों को 2020-21 सत्र में MBBS और BDS सहित अन्‍य ग्रेजुएट मेडिकल पाठ्यक्रमों में एडमिशन के लिए आरक्षण का लाभ मिलेगा.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने यह घोषणा की है कि मेडिकल कॉलेज में MBBS सीटों में 5 सीट कोविड वॉरियर (Corona Warriors) के बच्चों के लिए आरक्षित होंगी. इस नई कैटेगरी का नाम वार्ड्स ऑफ कोविड वॉरियर्स (Wards of COVID Warriors) है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने इस नई कैटेगरी के आरक्षण को मंजूरी दी.

यह भी पढ़ें: पीओके में एयर स्ट्राइक की खबरों का भारतीय सेना ने खंडन किया

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि बैचलर ऑफ मेडिसिन एंड बैचलर ऑफ सर्जरी (MBBS) और बैचलर ऑफ डेंटल सर्जरी (BDS) में कोरोना वॉरियर्स (Corona Warriors) के बच्चों के लिए 5 सीटें आरक्षित होंगी. स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया कि MBBS में 2020-21 सत्र में कोरोना वारियर्स के बच्चों के लिए 5 सीटें आरक्षित होंगी.

कौन होंगे दायरे में

स्वास्थ्य मंत्री ने यह भी बताया कि कौन लोग कोविड वॉरियर्स (Corona Warriors) के दायरे में आएंगे. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कोविड वारियर कोरोना के खिलाफ जंग में काम करने वाले आशा कार्यकर्ता और अस्पताल में काम करने वाले नर्स या डॉक्टर हैं. इसमें उनके बच्चों को भी लाभ मिलेगा जिन्होंने अपनी जान कोरना के कारण गंवाई. इनके बच्चों के लिए राष्ट्रीय कोटा नें 5 सीट रिजर्व की गई हैं. मेरिट के आधार पर उनका नामांकन किया जाएगा.

बता दें कि भारत में कोरोना महामरी के बीच स्वास्थ्य कर्मियों के लिए अपनी जान जोखिम में डालने के अलावा दूसरा कोई विकल्प नहीं है. कोरोना वॉरियर्स (Corona Warriors) लगातार अपनी जिंदगी पर खेलकर कोरोना का मुकाबला कर रहे हैं. इस दौरान हजारों स्वास्थ्य कर्मि अपनी जान गंवा चुके हैं.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें