Gujarat Exclusive > देश-विदेश > लॉकडाउन का फैसला साहसिक था, नहीं लगता तो और भयानक होती स्थिति: स्वास्थ्य मंत्री

लॉकडाउन का फैसला साहसिक था, नहीं लगता तो और भयानक होती स्थिति: स्वास्थ्य मंत्री

0
316

देश में बढ़ते कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामलों के बीच आज से मॉनसून सत्र की शुरुआत हुई. इस दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने लोकसभा में कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ सरकार के प्रयासों की जानकारी दी. हर्षवर्धन ने कहा कि अगर लॉकडाउन नहीं लगाया जाता तो देश में स्थिति और भयानक होती.

डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि देश भर में आज कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण जो स्थिति है वह और भयानक हो सकती थी. लॉकडाउन के कारण देश मे कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के 29 लाख मामलों को रोका जा सका है. यह बात कोई कम महत्वपूर्ण बात नहीं है.

हर्षवर्धन ने कहा,

सरकार का लॉकडाउन का निर्णय साहसिकथा. इसने देश में कोरोना के लगभग 14 से 29 लाख मामले कम हुए और 37,000 से 78,000 लोगों की जिंदगियों को बचाया. देश में कोरोना के संक्रमण की दर कम है. सरकार देश में कोविड-19 के नए मामले और मौतों पर रोक लगाने में कामयाब रही है.

वैक्सीन पर दी जानकारी

इससे पहले रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ वैक्सीन के अगले साल (2021) की शुरुआत में आने की उम्मीद जताई. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने रविवार को कहा, ‘हालांकि कोई तारीख अभी तय नहीं है लेकिन वैक्सीन 2021 की शुरुआत में तैयार हो जाएगी.’

यह भी पढ़ें: मीनाक्षी लेखी सहित 17 सांसद कोरोना से संक्रमित, मॉनसून सत्र से पहले हुआ था टेस्ट

हर्षवर्धन ने यह भी कहा कि सरकार वरिष्ठ नागरिकों और उच्च जोखिम जगहों पर काम करने वाले लोगों को कोरोना (Coronavirus) टीकाकरण के आपातकालीन प्राधिकरण पर विचार कर रही है. उन्होंने कहा कि यह सहमति बनने के बाद किया जाएगा. कोरोना (Coronavirus) के लिए वैक्सीन प्रशासन पर राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह इस पर एक विस्तृत रणनीति तैयार कर रहा है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को कैसे टीका लगाया जाए. ‘रविवार संवाद’ कार्यक्रम के दौरान हर्ष वर्धन ने अपने सोशल मीडिया फॉलोअर्स के साथ बातचीत की और उनके सवालों के जवाब दिए.

देश में कोरोना की स्थिति

मालूम हो कि कोरोना (Coronavirus) महामारी का प्रकोप कम होने का नाम नहीं ले रहा है. हर रोज नए मरीजों की बड़ी संख्या सामने आ रही है. दिल्ली, आंध्रप्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में इस बीमारी से ग्रसित होने वालों की संख्या हर रोज बढ़ रही है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़े के अनुसार देश में कोरोना (Coronavirus) मरीजों की संख्या बढ़कर 48,46,428 लाख हो चुकी है जबकि 9,86,598 लाख ऐक्टिव केस हैं.
37,80,108 लोग इस बीमारी को मात दे चुके हैं. इस जानलेवा बीमारी ने देश में अबतक 79,722 लोगों की जान ले ली है. पिछले 24 घंटे देश में कोरोना के 92,071 नए केस सामने आए हैं और 1,136 लोगों की मौत हुई है.

17 सांसद कोरोना से संक्रमित

वहीं आज से संसद के मॉनसून सत्र (Monsoon Season) की शुरुआत हुई. सत्र से पहले सभी सांसदों का कोरोना (Coronavirus) टेस्ट करवाया गया जिसमें हैरान कर देने वाले नतीजे सामने आए. कोरोना टेस्ट के रिजल्ट में पता चला कि 17 सांसदों कोरोना से संक्रमित हैं. इनमें  मीनाक्षी लेखी, अनंत कुमार हेगड़े और प्रवेश साहिब सिंह शामिल हैं.

इन सांसदों का 13 और 14 सितंबर को संसद भवन में टेस्ट कराया गया था. इन कोरोना संक्रमित सांसदों में सबसे ज्यादा 12 सांसद बीजेपी के हैं. YRS कांग्रेस के दो, शिवसेना, DMK के और RLP के एक-एक सांसद हैं.

कोरोना संकट के बीच शुरू हुआ मॉनसून सत्र (Monsoon Season) 1 अक्टूबर तक चलेगा. इस दौरान सख्ती से कोविड-19 गाइडलाइंस का पालन किया जा रहा है. इसके तहत फेस मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग की अनिवार्यता बनाई गई है. वहीं सदन में हर सीट पर पॉली-कार्बन ग्लास लगाया गया है. मॉनसून सत्र के पहले दिन के दौरान सांसद लगातार सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन करते नजर आए.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें