Gujarat Exclusive > गुजरात > सरकारी ट्रेन की तर्ज पर कॉरपोरेट तेजस, डेढ़ घंटे हुई लेट, यात्रियों को मिलेगा हर्जाना

सरकारी ट्रेन की तर्ज पर कॉरपोरेट तेजस, डेढ़ घंटे हुई लेट, यात्रियों को मिलेगा हर्जाना

0
232

अहमदाबाद-मुंबई के बीच प्रथम निजी ट्रेन को 17 जनवरी को गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था. 19 जनवरी से आम लोगों के लिए शुरु होने वाली देश की पहली कॉरपोरेट ट्रेन पांच दिनों में पहली बार देर से पहुंची है इसलिए तेजस एक्सप्रेस का संचालन आईआरसीटीसी ने यात्रियों को हर्जाना देने का ऐलान किया है. आईआरसीटीसी के मुताबिक ट्रेन के 630 यात्रियों को 100-100 रुपये मिलेंगे.

तेजस एक्सप्रेस का संचालन आईआरसीटीसी करता है और अहमदाबाद-मुंबई के बीच इस ट्रेन की शुरुआत 19 जनवरी को हुई है. ट्रेन मुंबई सेंट्रल स्टेशन पर डेढ़ घंटे लेट पहुंची. आईआरसीटीसी के प्रवक्ता ने कहा, ‘यात्री हमारी रिफंड पॉलिसी के तहत अप्लाई करेंगे। इसके बाद वेरिफिकेशन के बाद रिफंड दिया जाएगा.’

रेल अधिकारियों के अनुसार, तेजस अहमदाबाद से दो मिनट लेट होते हुए सुबह 6:42 पर चली थी. इसके बाद वह मुंबई सेंट्रल पर दोपहर 2.36 बजे पहुंची. जबकि ट्रेन को दोपहर 1.10 बजे पहुंचना था. तेजस एक्सप्रेस और कुछ अन्य ट्रेनों को मुंबई के बाहरी इलाके में भयंदर और दहिसर स्टेशनों के बीच तकनीकी समस्या के कारण रोका गया था.

आईआरसीटीसी के प्रवक्ता ने कहा कि ट्रेन के लेट होने की वजह से 630 यात्रियों को 100-100 रुपये दिए जाएंगे. IRCTC नियम के अनुसार, यदि तेजस ट्रेन एक घंटे से ज्यादा लेट होती है तो फिर 100 रुपये दिए जाते हैं. वहीं, अगर दो घंटे तक ट्रेन लेट होती है तो फिर 250 रुपये मिलते हैं. इस हिसाब से IRCTC तकरीबन 63 हजार रुपये देगा। कंपनी ने बताया कि यात्री 18002665844 पर कॉल या फिर [email protected] पर ईमेल करके क्लेम कर सकते हैं।