Gujarat Exclusive > देश-विदेश > अमेरिकी राष्ट्रपति के आगमन का काउंटडाउन शुरु, ट्रंप की करामाती कार पहुंची अहमदाबाद

अमेरिकी राष्ट्रपति के आगमन का काउंटडाउन शुरु, ट्रंप की करामाती कार पहुंची अहमदाबाद

0
1132

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप 24-25 तारीख को भारत के दौरे पर आने वाले हैं. ऐसे में वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृहराज्य गुजरात का भी दौरा करने वाले हैं, मिल रही जानकारी के अनुसार ट्रंप 24 तारीख को दोपहर 1.30 बजे अहमदाबाद पहुंच जाएंगे. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस दौरान 22 किमी. का लंबा रोड शो भी करने वाले हैं. सुरक्षा को मद्दनेजर रखते हुए गुजरात के 25 वरिष्ठ आइपीएस अफसरों के साथ ही साथ 20 हजार से अधिक पुलिसकर्मियों को तैनात किया जाएगा. जब किसी भी देश में ट्रंप का काफिला चलता है तो स्थानीय सुरक्षाकर्मियों के अलावा उनके अपने सुरक्षाकर्मी होते हैं, जो सैकड़ों की संख्या में होते हैं. ट्रंप के दौरे का काउंटडाउन शुरु हो गया है ऐसे में उनकी करामाती कार अहमदाबाद पहुंच चुकी है.

ट्रंप जब भी कहीं विदेश का दौरा करते हैं तो उनसे पहले ही ये कार वहां पहुंच जाती है. इस कार को दुनिया की सबसे करामाती और सबसे सुरक्षित कार कहा जाता है. आज अहमदाबाद एअरपोर्ट पर ट्रंप के सुरक्षा से जुड़े सामान को लेकर एक विशेष विमान का आगमन हुआ जिसमें ट्रंप की ‘द बीस्ट’ गाड़ी भी पहुंची. आईये जानते हैं कि डोनाल्ड ट्रंप के लिए तैयार की गई बेहद सुरक्षित और खासियतों से युक्त कार के बारे में जिसका तोड़ दुनिया के किसी भी राष्ट्रप्रमुख के पास अभी तक नहीं है.

जब भी अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप विदेश दौरा करते हैं तो उनकी ये खास लिमोजिन कार कम से कम 14 वाहनों के काफिले के बीचों-बीच चलती है. ये कार राष्ट्रपति की जरूरतों के अनुसार डिजाइन की गई है. जब ट्रंप करीब चार साल पहले प्रेसिडेंट बने थे उसके कुछ महीने बाद उन्हें ये कार दी गई थी. ये कार बमप्रूफ, केमिकल अटैक और न्यूक्लियर अटैक प्रूफ है. यानी सुरक्षा के लिहाज एकदम परफेक्ट. इस कार का हर पार्ट खास है, जो समय पड़ने पर अलग भूमिकाएं निभाता है.

ड्राइवर भी होता है बेहद खास मसलन आगे ड्राइवर की सीट के साथ पूरा कम्युनिकेशन सेंटर भी चल रहा होता है. ये वाहन जीपीएस से लैस होता है. ड्राइवर खुद जाबांज कमांडो होता है, वो ऐसा खास शोफर होता है, जो किसी भी हालत में कार को ड्राइव करने में सक्षम होता है. उसका केबिन कांच से अलग रहता है.

पीछे ट्रंप छह या सात लोगों के साथ बैठ सकते हैं लेकिन हर सीट को ग्लास से चैंबर के रूप में अलग कर सकते हैं. इस ग्लास को ऊपर नीचे करने का बटन प्रेसीडेंट के पास होता है.

जिस सीट पर प्रेसीडेंट बैठते हैं, क्या हैं उसकी खासियतें?

जिस सीट पर प्रेसीडेंट बैठते हैं, उसके बगल में सेटेलाइट फोन होता है, जिससे वो सीधे पेंटागन और उप राष्ट्रपति से बात कर सकते हैं. उनके पास पैनिक बटन और ऑक्सीजन सप्लाई बटन भी होता है. राष्ट्रपति की ओर का कार का गेट आठ इंच की मोटी स्टील, एल्यूमिनियम, टिटेनियम और सिरेमिक का बना होता है. कार की विंडो और आगे की स्क्रीन ग्लास के पांच लेयर्स से बनी होती है. यानी एकदम अभेद्य. हां ये भी जान लीजिए इसमें केवल एक विंडो ही खुलती है, वो भी केवल तीन इंच, ये ड्राइवर की विंडो होती है.

इस खास लिमोजिन की और क्या खासियतें हैं?

अब इस लिमोजिन कार की कुछ और खासियतों के बारे में जान लीजिए. इसमें जो ईंधन भरा जाता है, उसके साथ स्पेशल फोम भी मिक्स किया जाता है ताकि इसमें कभी एक्सप्लोड ना हो. इसमें फायर फायटिंग, टीयर गैस सिस्टम, मशीन गन चैंबर, नाइट विजन कैमरा और खास टायर होते हैं. अगर कार पंचर हो भी जाए तो कुछ नहीं बिगड़ने वाला और ना गति पर कोई असर पड़ेगा. वर्ष 2018 में डोनाल्ड ट्रंप जब राष्ट्रपति बने तो उन्हें खासतौर पर ये लिमोजिन कार डिजाइन करके दी गई. इससे पहले के राष्ट्रपतियों के लिए कैडलक कारों का इस्तेमाल किया जाता था.