Gujarat Exclusive > हमारी जरूरतें > दिल्ली के एम्स में शुरू हुआ पहली स्वदेशी कोरोना वैक्‍सीन का सबसे बड़ा ट्रायल

दिल्ली के एम्स में शुरू हुआ पहली स्वदेशी कोरोना वैक्‍सीन का सबसे बड़ा ट्रायल

0
1273

भारत में बनी पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन Covaxin का ह्यूमन ट्रायल दिल्‍ली स्थित एम्‍स में शुरू हो गया है. उम्‍मीद है कि आज कुछ वॉलंटियर्स को वैक्‍सीन की पहली डोज दे दी जाएगी. एम्‍स दिल्‍ली देश की उन 12 जगहों में से एक है जहां Covaxin का ट्रायल हो रहा है. एम्‍स पटना और रोहतक पीजीआई में वैक्‍सीन का ट्रायल पहले ही चल रहा है. गोवा में भी आज से ट्रायल की प्रक्रिया शुरू हो रही है.

मालूम हो कि आईसीएमआर और भारत बायोटेक की संयुक्त साझेदारी से Covaxin नामक वैक्सीन बनाई गई है जिससे कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच एक बड़ी उम्मीद जताई जा रही है. भारतीय दवा महानियंत्रक (DGCI) से अनुमति मिलने के बाद वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है. बिहार के पटना एम्स और हरियाणा के रोहतक पीजीआई के बाद अब दिल्ली एम्स में इस देसी वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल शुरू हो चुका है. आईसीएमआर के मुताबिक देश के 14 स्वास्थ्य संस्थानों मे पहले और दूसरे चरण का ट्रायल होना है. अच्छी बात ये है कि वैक्सीन का फिलहाल कोई साइड इफेक्ट सामने नहीं आया है.

एम्स से 100 वोलंटियर्स

देसी वैक्सीन Covaxin के पहले चरण का ट्रायल 375 वॉलंटियर्स पर होना है. इनमें से 100 वॉलंटियर्स एम्स से शामिल होंगे. ह्यूमन ट्रायल के पहले चरण में स्वस्थ लोगों को ही शामिल किया जाना है, जिनकी उम्र 18 से 55 साल के बीच होगी. एम्स की एथिक्स कमेटी ने Covaxin के पहले ह्यूमन ट्रायल को मंजूरी दे दी है.

हजारों लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन

खबरों के मुताबिक, ट्रायल में शामिल होने के लिए केवल 10 घंटे में 10 हजार से अधिक लोगों ने पंजीकरण कराया है. इसमें दिल्ली के बाहर अन्य राज्यों के भी प्रतिभागी पंजीकरण करवा रहे हैं, लेकिन फिलहाल केवल दिल्ली-एनसीआर के लोगों के रजिस्ट्रेशन को मंजूरी दी जाएगी. जिस शख्स पर कोरोना वैक्सीन का ट्रायल होगा उसकी पहले कोरोना जांच होगी, संक्रमित लोगों पर ट्रायल नहीं किया जाएगा.

कैसे करा सकते हैं रजिस्ट्रेशन

दिल्ली एम्स के मुताबिक, वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल में शामिल होने के लिए मोबाइल नंबर 07428847499 पर पंजीकरण कराया जा सकता है या फिर ईमेल आईडी [email protected] पर मेल भी किया जा सकता है. ट्रायल से पहले लोगों का मेडिकल चेकअप होगा जिसमें ब्लड टेस्ट, बीपी टेस्ट किया जाएगा. साथ ही किडनी और लिवर से जुड़ी बीमारियां नहीं होने के बाद ही वैक्सीन की डोज दी जाएगी.

कोरोना से रोज होने वाली मौतों के मामले में भारत ने अमेरिका को पीछे छोड़ा