Gujarat Exclusive > देश-विदेश > रूस में अगले हफ्ते से लोगों को दी जाएगी कोरोना वैक्सीन, रक्षा मंत्री को लगा टीका

रूस में अगले हफ्ते से लोगों को दी जाएगी कोरोना वैक्सीन, रक्षा मंत्री को लगा टीका

0
434

कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे के बीच रूस से अच्छी खबर आई है. रूस इसी हफ्ते से कोरोना वायरस वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) स्पूतनिक-वी (Sputnik-V) को आम जनता के लिए उपलब्ध कराने जा रहा है. वहीं रूस के रक्षा मंत्री को कोरोना वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) ‘स्पूतनिक वी’ दी गई है.

मालूम हो कि राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) ने 11 अगस्त को इस वैक्सीन को लॉन्च किया था.

रूसी न्यूज एजेंसी TASS के मुताबिक, ‘स्पूतनिक-V’ वैक्सीन को 10-13 सितंबर के बीच स्वास्थ्य मंत्रालय की हरी झंडी मिलने के बाद व्यापक इस्तेमाल के लिए उपलब्ध करा दिया जाएगा. इसके बाद जनता को वैक्सीन लगाई जानी शुरू हो जाएगी.

पुतिन की बेटी को लगा था टीका

इससे पहले रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और उनकी एक बेटी को भी टीका (Covid-19 Vaccine) दिया जा चुका है और उसमें एंटीबॉडी विकसित हुए हैं.
रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने रूस द्वारा पिछले महीने मंजूरी दिए गए कोरोना वायरस के टीके (Covid-19 Vaccine) की प्रशंसा की और कहा कि यह प्रभावी और सुरक्षित है.
इसके अलावा रूसी व्यापार मंत्री डेनिस मंटुरोव को भी टीका (Covid-19 Vaccine) लगाया गया था.

फिलहाल यह टीका रूस के रक्षा मंत्री को लगाई गई है और उन्होंने कहा है कि कोरोना वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) लगाए जाने के बाद वह अच्छा महसूस कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: उपलब्धि: स्वदेशी तकनीक से निर्मित हाइपरसोनिक व्‍हीकल का हुआ सफल परीक्षण

रशियन एकेडमी ऑफ साइंस के डेप्युटी डायरेक्टर डेनिस लोगुनोव ने बताया है कि नागरिक उपयोग के लिए वैक्सीन के बैच को अधिकृत करने की एक निश्चित प्रक्रिया है.
इसे मेडिकल वॉचडॉग Roszdravnadzor की गुणवत्ता जांच पास को करना होगा. 10 से 13 सितंबर के बीच, हमें नागरिक उपयोग के लिए वैक्सीन के बैच को जारी करने की अनुमति प्राप्त करनी है. इसके बाद हम वैक्सीन को आम लोगों के लिए जारी करने की स्थिति में होंगे. वैक्सीन का वितरण रूसी स्वास्थ्य मंत्रालय की देख रेख में किया जाएगा.

लोगुनोव ने आगे कहा कि वैक्सीन के वितरण में ऐसे लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी जो उच्च-जोखिम वाले समूह में आते हैं.

11 अगस्त को मिली थी मंजूरी

11 अगस्त को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) ‘स्पूतनिक-V’ को मंजूरी दी थी. पहले बैच का उत्पादन शुरू कर दिया है.
मॉस्को में स्थित गमालेया इंस्टीट्यूट ने इस वैक्सीन को विकसित किया है. रूस ने इस वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) को ‘स्पुतनिक V’ नाम दिया है, जो सोवियत संघ द्वारा 1957 में छोड़े गए दुनिया के पहले मानव निर्मित उपग्रह का नाम था.

ऑक्सफोर्ड वैक्सीन का ट्रायल टला

उधर दुनिया के कई देशों में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के ट्रायल जारी हैं. भारत में इस वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल किया जाना है लेकिन चंडीगढ़ के द पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (PGIMER) में होने वाला इस वैक्सीन का ट्रायल एक हफ्ते के लिए टाल दिया गया है. ये ट्रायल सिंतबर के पहले हफ्ते में शुरू किया जाना था. इस हफ्ते के देरी के पीछे सुरक्षा के कुछ कारण बताए जा रहे हैं.

भारत में कोरोना के मामले

भारत में भी कोरोना की तीन वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) पर ट्रायल चल रहा है. इस बीच देश में आज दूसरे दिन भी रिकॉर्डतोड़ 90 हजार से ज्यादा नए मामले दर्ज किए गए. इसके बाद देश में संक्रमितों की संख्या 42 लाख के पार पहुंच गई है.

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सोमवार सुबह जारी ताजा आकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटों में एक बार फिर से रिकॉर्ड 90,802 नए मामले सामने आए हैं. वहीं इस दौरान 1,016 लोगों की मौत दर्ज की गई. जिसके बाद देश में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 42 लाख 4 हजार हो गई है. वहीं इस वायरस की वजह से 71 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें