Gujarat Exclusive > गुजरात > तालाबंदी से परेशान दिहाड़ी मजदूर, हताश होकर गुजरात के मंदिर में काट ली जीभ‍

तालाबंदी से परेशान दिहाड़ी मजदूर, हताश होकर गुजरात के मंदिर में काट ली जीभ‍

0
1726

मध्य प्रदेश के रहने वाले एक प्रवासी शिल्पकार ने गुजरात के बनासकांठा जिले के एक मंदिर में शनिवार को अपनी जीभ काट ली. वह संभवत: लॉकडाउन के कारण हताश था और घर वापस जाना चाहता था. हालांकि, पुलिस ने उन खबरों से इनकार किया है कि शिल्पकार ने मंदिर में देवी को चढ़ावा चढ़ाने के लिए अपनी जीभ काटी.

मुरैना जिला निवासी विवेक शर्मा (24) पेशे से शिल्पकार है. उन्हें शनिवार को सुई गाम तहसील के नादेश्वरी गांव के नादेश्वरी माता मंदिर में खून से लथपथ बेहोश स्थिति में पाया गया. पुलिस उपनिरीक्षक एच.डी. परमार ने बताया, ‘जब वह हमें मिला उसने अपनी जीभ हाथ में पकड़ी हुई थी. हम उसे तुरंत सुई गाम अस्पताल ले गए. जिस मंदिर में यह घटना हुई, उसकी देखभाल सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) करता है, जबकि शर्मा वहां से करीब 14 किलोमीटर दूर एक दूसरे मंदिर में काम करता था. प्रारंभिक जांच के अनुसार, लॉकडाउन के कारण राज्यों की सीमाएं सील होने के बाद शर्मा को घर की बहुत याद सता रही थी और वह व्याकुल हो गया था.

‘सामान लेने बाजार जाने को निकला था’

शनिवार को वह अपने साथियों से यह कहकर निकला कि वह बाजार से कुछ सामान लेकर वापस लौट आएगा. हालांकि घर से निकलने के बाद जब वह शाम तक नहीं लौटा तो दोस्तों ने उसे फोन लगाया. इस दौरान एक अन्य शख्स ने फोन उठाकर कहा कि विवेक ने यहां के नादेश्वरी मंदिर में अपनी जीभ काट ली है. पुलिस के मुताबिक, विवेक को मंदिर के परिसर में बेहोश देखकर यहां के पुजारियों ने बीएसएफ के एक कमांडर को इसके बारे में बताया था. इसके बाद उसे अस्पताल पहुंचाया गया.

गुजरात में 12 घंटों में दर्ज हुए 228 नए मामले, अहमदाबाद में कोरोना संक्रमितों की संख्या हजार के पार