Gujarat Exclusive > देश-विदेश > कोरोना के बाद अब भारत में खतरनाक अफ्रीकी फ्लू की दस्तक, असम में 2500 सूअरों की मौत

कोरोना के बाद अब भारत में खतरनाक अफ्रीकी फ्लू की दस्तक, असम में 2500 सूअरों की मौत

0
818

पूरा देश कोरोना महामारी से त्रास्त है. भारत में अभी कोरोना का इलाज मिला भी नहीं था कि देश में एक और घातक बीमारी ने दस्तक दे दी है. अफ्रीकी स्वाइन फ्लू ने भारत में दस्तक दे दी और इसका कहर असम असम में देखने को मिल रहा है. असम सरकार के मुताबिक, अफ्रीकी स्वाइन फ्लू की वजह से करीब 2500 सूअरों की मौत हो चुकी है.

रविवार को असम सरकार के पशुपालन और पशु चिकित्सा मंत्री अतुल बोरा ने एक प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि राज्य में अफ्रीकी स्वाइन फ्लू के मामले सामने आए हैं. अब तक राज्य के सात जिलों के 306 गांवों में यह बीमारी फैली है. इस खतरनाक बीमारी से अब तक 2500 सूअरों की मौत हो चुकी है.

उन्होंने यह भी बताया कि राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशुरोग संस्थान ने अफ्रीकी स्वाइन फ्लू (एएसएफ) की पुष्टि की है. देश में पहली बार इस बीमारी ने दस्तक दी है. यह संक्रमण इतना खतरनाक है कि इससे संक्रमित सूअरों की मृत्युदर 100 प्रतिशत है. उन सूअरों को बचाने की रणनीति तैयार हो रही है जो अभी संक्रमण से बचे हुए हैं.

बोरा ने बताया कि केंद्र सरकार से मंजूरी मिलने के बाद भी असम सरकार सूअरों को मारने के बजाय इस घातक संक्रामक बीमारी को फैलने से रोकने के लिए अन्य रास्ता अपनाएगी. उन्होंने बताया कि इस बीमारी का कोविड-19 यानी कोरोना वायरस से कोई लेना-देना नहीं है. उन्होंने बताया कि अफ्रीकी स्वाइन फ्लू सूअर के मांस, स्लाइवा, खून और टिशू के जरिए फैलता है. इसलिए, असम सरकार सूअरों का परिवहन रोकेगी.

बोरा ने बताया कि इस बीमारी की शुरुआत अप्रैल 2019 में चीन के जियांग प्रांत के एक गांव में हुई थी जो अरुणाचल प्रदेश का सीमावर्ती है. असम में यह बीमारी इसी साल फरवरी के अंत में सामने. और ऐसा लगता है कि यह बीमारी चीन से अरुणाचल होती हुई असम पहुंची है.

सोनिया गांधी का ऐलान, प्रवासी मजदूरों-कामगारों के रेल टिकट का खर्च उठाएगी कांग्रेस