Gujarat Exclusive > यूथ > दिल्ली विधानसभा चुनाव : राजेंद्र नजर सीट पर आप प्रत्याशी राघव चड्ढा जीते, चुनाव कैंपने में मिल रहे थे शादी के प्रस्ताव

दिल्ली विधानसभा चुनाव : राजेंद्र नजर सीट पर आप प्रत्याशी राघव चड्ढा जीते, चुनाव कैंपने में मिल रहे थे शादी के प्रस्ताव

0
200

नई दिल्ली : दिल्ली विधानसभा चुनावों के लिए जारी मतगणना में आम आदमी पार्टी के लिए एक और अच्छी खबर है. आम आदमी पार्टी के प्रत्‍याशी राघव चड्ढा राजेंद्र नगर सीट से जीत गए हैं. उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी भारतीय जनता पार्टी के आरपी सिंह को 16 हजार से भी ज्यादा मतों से हराया है. चुनावी कैंपेन के दौरान शादी के मिल रहे प्रस्ताव की वजह से सुर्खियों में रहे राघव चड्ढा ने 52059 वोटों के साथ चुनावों में जीत हासिल कर ली है. इससे पहले आम आदमी पार्टी के नेता अब्दुल रहमान ने अपनी पार्टी के लिए जीत का खाता खोला. उन्होंने सीलमपुर विधानसभा सीट पर शानदार जीत दर्ज की.

कैंपेन में मिले थे शादी के कई प्रस्ताव

राघव चड्ढा पहली बार विधानसभा का चुनाव में उतरे हैं जबकि भाजपा ने आरपी सिंह को वर्ष 2013 और 2015 में भी चुनाव के मैदान में उतारा था. राघव चड्ढा इससे पहले 2019 में लोकसभा चुनाव में दक्षिण दिल्‍ली से आप के प्रत्‍याशी बने थे, लेकिन यहां से उन्‍हें हार का सामना करना पड़ा था. इस बार राघव पर आप ने जो दाव खेला वह सही साबित हुआ. राघव अपने चुनावी कैंपेन के दौरान काफी सुर्खियों में रहे. इस दौरान उन्हें शादी के लिए कई प्रस्ताव भी मिले. हालांकि राघव ने बेहद सादगी के साथ सबका जवाब दिया और अब वह विजयी हुए हैं.

राजेंद्र नगर सीट का इतिहास

वर्ष 2015 के विधानसभा चुनाव में इस सीट से आम आदमी पार्टी के प्रत्‍याशी विजेंदर गर्ग विजय को मैदान में उतार था. उन्‍हें इस चुनाव में सबसे 53.39 फीसद वोट मिले थे, जबकि भाजपा के आरपी सिंह को 35.94 फीसद मत मिले थे. तीसरे स्‍थान पर कांग्रेस के प्रत्‍याशी ब्रह्म यादव थे जिन्‍हें महज 7.8 फीसद मत ही हासिल हुए थे. इस बार आम आदमी पार्टी ने इस सीट से विजय का टिकट काट कर राघव पर दांव लगाया है. राजेंद्र नगर सीट 1972 में सामने आई थी. यह विधानसभा क्षेत्र कोचिंग सेंटर के लिए जाना जाता है. इसके अलावा इसकी पहचान देश के बंटवारे के बाद पंजाबी शरणार्थियों का यहां आकर बसना भी है.

वर्ष 1993 से 2003 तक इस सीट पर भाजपा के पूरन चंद त्‍यागी का कब्‍जा था. इसके बाद 2008 में ये सीट कांग्रेस की झोली में चली गई और यहां से रमाकांत गोस्‍वामी ने जीत हासिल की थी. वर्ष 2013 में इस सीट पर भाजपा के आरपी सिंह ने कब्‍जा किया. 2015 में आम आदमी पार्टी ने इस सीट पर धमाकेदार जीत दर्ज की थी.