Gujarat Exclusive > देश-विदेश > दिल्ली चुनाव: बीजेपी का पाकिस्तान के साथ चुनावी रिश्ते में आया खटास, हार के बाद हो रही आलोचना

दिल्ली चुनाव: बीजेपी का पाकिस्तान के साथ चुनावी रिश्ते में आया खटास, हार के बाद हो रही आलोचना

0
407

दिल्ली विधानसभा चुनावों के प्रचार के दौरान इस बार भारतीय जनता पार्टी ने इस चुनाव को पाकिस्तान से जोड़ने की नाकाम कोशिश की. सबसे पहले मॉडल टाउन से उम्मीदवार कपिल मिश्रा ने दिल्ली चुनाव की तुलना भारत-पाकिस्तान के क्रिकेट मैच से की है. इतना ही नहीं कपिल मिश्रा और बीजेपी के कई आला लीडरों ने तो आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पर शाहीन बाग जैसे मिनी पाकिस्तान के साथ खड़े होने का आरोप लगाया. ऐसे में अब रिजल्ट आ चुका है और एक बार फिर से दिल्ली में केजरीवाल की वापसी हो रही है तब पाकिस्तानी मीडिया चैनल और सियासत से जुड़े लोगों की इस चुनाव को लेकर अलग-अलग राय सामने आ रही है.

दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजों पर देश भर के लोगों की ही नहीं बल्कि पड़ोसी देश पाकिस्तान की नजरें भी टिकी हुई थीं. चुनाव के परिणाम सामने आने के बाद आम आदमी पार्टी को शानदार कामयाबी हासिल हुई है वहीं बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा है, बीजेपी के हाथों लगने वाली हार के बाद पाकिस्तानी मीडिया और इमरान खान के मंत्रियों की तरफ से भी अलग-अलग प्रतिक्रिया आई हैं. पाकिस्तान के विज्ञान एवं तकनीक मंत्री फवाद चौधरी ने सबसे पहले दिल्ली चुनाव के नतीजों पर ट्वीट किया अक्सर विवादित बयान देकर सुर्खियों में रहने वाले फवाद चौधरी ने इस बार भी मर्यादाओं में रहकर टिप्पणी नहीं की.

फवाद ने दिल्ली चुनाव में बीजेपी की हार की खबर को ट्वीट करते हुए लिखा, Aww, ये क्या हुआ? इसके साथ ही उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी को ‘बेचारा’ भी कह दिया. लेकिन चुनाव कौ दौरान फवाद चौधरी को ट्विटर पर खुद अरविंद केजरीवाल ने जवाब देते हुए कहा था कि नरेंद्र मोदी जी भारत के प्रधानमंत्री हैं और मेरे भी प्रधानमंत्री हैं. दिल्ली का चुनाव भारत का आंतरिक मसला है और हमें आतंकवाद के सबसे बड़े प्रायोजकों का हस्तक्षेप बर्दाश्त नहीं है.

पाकिस्तानी मीडिया ने भी दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजों को प्रमुखता से छापा है. पाकिस्तान के प्रमुख अखबार डॉन में ‘दिल्ली के अहम चुनाव में मोदी की हार’ और ‘दिल्ली चुनाव में केजरीवाल की आप ने मोदी की बीजेपी को हराया’ जैसे शीर्षकों से खबरें छपीं हैं. पाकिस्तान के एक अन्य अखबार डेली टाइम्स ने शीर्षक दिया- भारत की सत्तारूढ़ पार्टी को एक और अहम राज्य चुनाव में मिली हार.

पाकिस्तान के चैनल जियो न्यूज ने भी दिल्ली चुनाव को लेकर प्रमुखता से खबर छापी है. जियो न्यूज ने शीर्षक दिया- ‘मोदी के एंटी पाकिस्तान एजेंडे की बीजेपी को चुकानी पड़ी भारी कीमत’.गौरतलब हो कि दिल्ली विधानसभा चुनावों के तारीखों का ऐलान होने के बाद सबसे ज्यादा जहरीले बोल इस चुनाव में देखने को मिला और दिल्ली के आम मुद्दों को उठाने के बजाय बीजेपी ने अक्सर पाकिस्तान और हिन्दू मुस्लिम को मुद्दा बनाकर इस चुनाव का प्रचार प्रसार किया. लेकिन नतीजा आने के बाद साफ हो गया कि दिल्ली की जनता विकास के मुद्दों को समझ रहे हैं. लेकिन दिल्ली के लोगों की इस समझदारी को कुछ बीजेपी के नेता और तथाकथित पत्रकार लालची बता रहे हैं.