Gujarat Exclusive > राजनीति > विपक्ष के नेता आज राष्ट्रपति से करेंगे मुलाकात, दिग्विजय ने कहा- मुझे महामहिम जी से कोई उम्मीद नहीं

विपक्ष के नेता आज राष्ट्रपति से करेंगे मुलाकात, दिग्विजय ने कहा- मुझे महामहिम जी से कोई उम्मीद नहीं

0
414

केंद्र की मोदी सरकार द्वारा लागू कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन 14 वें दिन में प्रवेश कर चुका है. सरकार और किसानों के बीच अबतक पांच दौर की बातचीत हो चुकी है.

छवे दौर की बातचीत आज होने वाली थी. लेकिन कल देर रात गृहमंत्री अमित शाह के साथ किसान संगठन के कुछ नेताओं ने बैठक की थी. Digvijay President meet

लेकिन इस बैठक में भी कोई ठोस नतीजा नहीं निकला. कृषि कानून को लेकर एक बार फिर विपक्ष का एक प्रतिनिधिमंडल आज शाम राष्ट्रपति से मुलाकात करने वाले हैं.

मुझे महामहिम जी से कोई उम्मीद नहीं- दिग्विजय Digvijay President meet

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से विपक्षी दल के नेताओं से मुलाकात के पहले मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर कहा कि राष्ट्रपति से इस संबंध में कोई उम्मीद नहीं है.

दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर लिखा “राष्ट्रपति जी से किसान विरोधी क़ानून को वापस लेने के लिए 24 राजनैतिक दलों का डेलीगेशन आज मिलने जा रहा है.

मुझे महामहिम जी से कोई उम्मीद नहीं है. इन 24 राजनैतिक दलों को NDA में उन सभी दलों से भी चर्चा करना चाहिए जो किसानों के साथ हैं. नितीश जी को मोदी जी पर दबाव डालना चाहिए.”

कृषि कानून को लेकर इससे पहले भी की जा चुकी है मुलाकात Digvijay President meet

गौरतलब है कि कृषि कानून को जब राज्यसभा में बहस के लिए रखा गया था उस दौरान विपक्ष ने जमकर हंगामा किया था जिसके बाद सभापति ने कई विपक्षी सांसदों को निलंबित कर दिया था.

इस मामले के बाद राज्यसभा में कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद की अगुवाई में विपक्षी दल का एक प्रतिनिधिमंडल ने उस दौरान भी राष्ट्रपति से मुलाकात कर कृषि कानून पर हस्ताक्षर नहीं करने की मांग की थी. Digvijay President meet

कल शाम गृह मंत्री अमित शाह ने भी किसानों के साथ एक बैठक की थी. 2 घंटों तक चली इस बैठक में कोई ठोस नहीं निकला था.

जिसके बाद आज होने वाली किसान और सरकार के बीच 6 वें चरण की बैठक को रद्द कर दिया गया. Digvijay President meet

कई दौर की वार्ता बेनतीजा रहने के बाद हजारों किसान दिल्ली की सीमाओं पर डटे हैं और नए कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग पर अड़े हैं.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

गुजरात यूनिवर्सिटी में आयोजित होने वाली ऑनलाइन परीक्षा MCQ पर आधारित होगी