Gujarat Exclusive > देश-विदेश > अशुभ मुहुर्त में राम मंदिर भूमि पूजन कर आप लोगों के स्वास्थ्य से कर रहे हैं खिलवाड़: दिग्विजय सिंह

अशुभ मुहुर्त में राम मंदिर भूमि पूजन कर आप लोगों के स्वास्थ्य से कर रहे हैं खिलवाड़: दिग्विजय सिंह

0
658

देश में बढ़ते कोरोना संकट के बीच 5 अगस्त को होने वाले राम मंदिर निर्माण भूमि पूजन कार्यक्रम को लेकर जहां तैयारियां जोरों पर है वहीं दूसरी तरफ इस मामले को लेकर सियासी बहसबाजी भी तेज हो गई है.

नया मामला है मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का उन्होंने राम मंदिर निर्माण के शिलान्यास का ये शुभ समय नहीं है.

दिग्विजय सिंह ने कहा कि आप अशुभ मुहुर्त में राम मंदिर भूमि पूजन कर लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं.

इतना ही नहीं उन्होंने इस मामले को लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी पर भी हमला बोला.

अशुभ मुहुर्त में होगा भूमि पूजन

अयोध्या में राम मंदिर के भूमिपूजन दिग्गी ने एक नहीं बल्कि कई ट्वीट एक साथ कर केंद्र और राज्य सरकार पर सवाल खड़ा किया. पहले ट्वीट में उन्होंने लिखा- मोदी जी आप अशुभ मुहुर्त में भगवान राम मंदिर का शिलान्यास कर और कितने लोगों को अस्पताल भिजवाना चाहते हैं? योगी जी आप ही मोदी जी को समझाइए.

आपके रहते हुए सनातन धर्म की सारी मर्यादाओं को क्यो तोड़ा जा रहा है? और आपकी क्या मजबूरी है जो आप यह सब होने दे रहे हैं?

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा-

सनातन हिंदू धर्म की मान्यताओं को नज़र अंदाज करने का नतीजा.

१- राम मंदिर के समस्त पुजारी कोरोना पोजिटिव

२- उत्तर प्रदेश की मंत्री कमला रानी वरुण का कोरोना से स्वर्गवास

३- उत्तर प्रदेश के भाजपा अध्यक्ष कोरोना पोजिटिव अस्पताल में.

इस मौके पर उन्होंने एक अन्य ट्वीट करते हुए इस कार्यक्रम से पहले कितने लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं उसका भी विवरण दिया

४- भारत के गृह मंत्री अमित शाह कोरोना पोजिटिव अस्पताल में.

५- मध्यप्रदेश के भाजपा के मुख्यमंत्री व भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष कोरोना पोजिटिव अस्पताल में

६- कर्नाटक के भाजपा के मुख्यमंत्री कोरोना पोजिटिव अस्पताल में.

इससे पहले भी कुछ लोग उठा चुके हैं सवाल

गौरतलब है कि कोरोना संकटकाल के बीच राम मंदिर निर्माण को लेकर होने वाले भूमि पूजन पर सवाल खड़ा किया जा रहा है.

देश और राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या में दिन ब दिन होने वाली वृद्धि के बीच इतनी बड़ी संख्या में एक जगह पर लोगों के जमा होने को लेकर भी सवाल खड़े हो रहे हैं.

इससे पहले भी कोरोना का हवाल देकर कुछ इस प्रोग्राम को बाद में करने की नसीहत दे चुके हैं.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

गुजरात में कोरोना के 1101 नए मामले, 22 और लोगों की मौत