Gujarat Exclusive > देश-विदेश > भारत दौरे पर ‘न्यूक्लियर फुटबॉल’ लेकर आ रहे हैं डोनाल्ड ट्रंप, जानिए इसकी खूबी

भारत दौरे पर ‘न्यूक्लियर फुटबॉल’ लेकर आ रहे हैं डोनाल्ड ट्रंप, जानिए इसकी खूबी

0
250

भारत दौरे पर आ रहे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सुरक्षा को लेकर देश में पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं. दिल्ली ही नहीं, बल्कि अहमदाबाद और आगरा में भी ट्रंप के दौरे के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद की जा रही है. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप जब अपनी पत्नी मेनालिया ट्रंप के साथ 24-25 फरवरी को भारत दौरे पर आएंगे तब उनके साथ न सिर्फ उनकी सुरक्षा टीम होगी, बल्कि एक खास फुटबॉल भी होगी.

न्यूक्लियर फुटबॉलसाथ लाएंगे ट्रंप

अमेरिकी राष्‍ट्रपति हमेशा अपने साथ ‘न्यूक्लियर फुटबॉल’ रखते हैं जो भारत दौरे पर भी उनके साथ होगा. इस फुटबॉल की अहमियत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यह पल भर में दुनिया को तबाह कर सकता है. इस न्यूक्लियर फुटबॉल को ‘सीक्रेट ब्रीफकेस’ भी कहा जाता है, जिसे उनके सुरक्षा दस्ते के अधिकारी हाथ में लिए रहते हैं. अन्य जवान के हाथ में हथियारों से लैस एक ब्रीफकेस भी होता है ताकि जब भी कोई यह ‘न्यूक्लियर फुटबॉल’ छीनने की कोशिश करे तो उससे बचाया जा सके.

परमाणु हमले की ताकत

परमाणु हमले के लिए सीक्रेट कोड और अलार्म से लैस इस ब्रीफकेस को न्यूक्लियर फुटबॉल के नाम से जाना जाता है. हालांकि, यह असल वाला फुटबॉल नहीं होता. काले रंग का यह टॉप सीक्रेट ब्रीफकेस दुनिया का सबसे शक्तिशाली ब्रीफकेस माना जाता है. इसे अमेरिका के राष्ट्रपति अपने पास हमेशा रखते हैं, जिसमें संचार उपकरण होते हैं जो उन्हें परमाणु हमले की इजाजत देता है.

1962 से प्रचलन में न्यूक्लियर फुटबॉल

डेलीमेल के मुताबिक, 1962 के बाद से अमेरिका के हर राष्ट्रपति के साथ न्यूक्लियर फुटबॉल साथ होता है. इसे इस उद्देश्य से तैयार किया गया ताकि अमेरिकी राष्ट्रपति के पास हमेशा परमाणु युद्ध के विकल्प मौजद रहें.

तीन हैं न्यूक्लियर फुटबॉल

खबरों के मुताबिक न्यूक्लियर फुटबॉल तीन हैं. एक राष्ट्रपति के साथ होता है, एक उपराष्ट्रपति के साथ और एक व्हाइट हाउस में सुरक्षित रखा जाता है. न्यूक्लियर फुटबॉल कहने जाने वाले इस ब्रीफकेस के भीतर एक छोटा सा एंटिना लगा संचार उपकरण होता है जो सैटेलाइट फोन से हमेशा जुड़ा होता है. इसके जरिए अमेरिकी राष्‍ट्रपति दुनिया के किसी भी कोने से तुरंत बात कर सकते हैं और गाइड कर सकते हैं. इसमें 75 पेज की एक किताब भी होती है, जो राष्ट्रपति को परमाणु हमले से संबंधित सारे विकल्पों से सूचित करता है. दस पन्ने के फोल्डर में सैन्य नेताओं के कॉन्टैक्ट विवरण होते हैं.

पीएम मोदी के साथ भी रहता है खास ब्रीफकेस

ऐसा ब्रीफकेस भारत के प्रधानमंत्री की सुरक्षा में भी होता है. हाल ही के मौकों पर ऐसे कई तस्वीरें सामने आई हैं जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में तैनात स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप के अफसर हाथ में ब्रीफकेस थामे नजर आए हैं.