Gujarat Exclusive > हमारी जरूरतें > देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो का आगाज, पीएम मोदी ने दिखाई हरी झंडी

देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो का आगाज, पीएम मोदी ने दिखाई हरी झंडी

0
205

भारत की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो (Driverless Metro) ट्रेन का सोमवार को आगाज हो गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को हरी झंडी दिखाकर इस खास मेट्रो (Driverless Metro) ट्रेन को रवाना किया. देश की पहली ड्राइवरलेस ट्रेन दिल्ली मेट्रो के मजेंटा लाइन और पिंक लाइन पर चलाई जानी है. पहले चरण में ड्राइवरलेस ट्रेन (Driverless Metro) मजेंटा लाइन पर जनकपुरी पश्चिम से नोएडा के बॉटनिकल गार्डन मेट्रो स्टेशन के बीच दौड़ेगी. मंगलवार से इस रूट पर यह मेट्रो सर्विस शुरू हो जाएगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मौके पर कहा, ‘अभी मुझे बिना ड्राइवर के चलनी वाले मेट्रो रेल का उद्घाटन करने का अवसर मिला है. आज इस उपलब्धि के साथ ही हमारा देश दुनिया के उन चुनिंदा देशों में शामिल हो गया है जहां इस तरह की सुविधा है.’  उद्घाटन के अगले दिन यानी मंगलवार से इस रूट पर यह मेट्रो सर्विस शुरू हो जाएगी.

यह भी पढ़ें: 30 दिसंबर को होगी सरकार और किसानों के बीच बातचीत

पीएम ने वर्चुअल उद्घाटन कार्यक्रम में कहा कि ‘2014 में सिर्फ 5 शहरों में मेट्रो रेल थी. आज 18 शहरों में मेट्रो रेल की सेवा है. वर्ष 2025 तक हम इसे 25 से ज्यादा शहरों तक विस्तार देने वाले हैं. ये सिर्फ आंकड़े नहीं हैं ये करोड़ों भारतीयों के जीवन में आ रही Ease of Living के प्रमाण हैं. ये सिर्फ ईंट पत्थर, कंक्रीट और लोहे से बने इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं हैं बल्कि देश के नागरिकों, देश के मिडिल क्लास की आकांक्षा पूरा होने के साक्ष्य है.’

क्या होंगे फायदे

दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) के मुताबिक, ड्राइवरलेस मेट्रो (Driverless Metro) ट्रेन एक जैसी रफ्तार से चल पाएगी. इनकी टॉप स्पीड 95 किलोमीटर प्रति घंटा होगी और ये पटरी पर 85 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चलेंगी. DMRC के मुताबिक, ये ट्रेन कम पावर पर खाएंगी.

ड्राइवरलेस मेट्रो (Driverless Metro) ट्रेन के लिए नए वाले सिग्नल सिस्टम की वजह से दो ट्रेनों के बीच की न्यूनतम दूरी घट जाएगी और मेट्रो स्टेशन के प्लैट्फॉर्म पर ट्रेन की फ्रीक्वेंसी भी अच्छी होगी. आमतौर पर दूसरे मेट्रो के लिए 2 मिनट का इंतजार करना होता है, लेकिन इससे 90 से 100 सेकेंड में दूसरी मेट्रो आ जाएगी. ड्राइवरलेस मेट्रो ट्रेन (Driverless Metro) में ड्राइवर केबिन नहीं होगा तो पैसेंजर्स के लिए थोड़ी ज्यादा जगह होगी. इसके साथ ही पैसेंजर अब ट्रेन जाने वाली दिशा में सामने जाकर देख सकेंगे.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें