Gujarat Exclusive > देश-विदेश > कोरोना के कारण पूरे देश में तालाबंदी जैसे हालात, संक्रमित लोगों की संख्या 500 के करीब पहुंची

कोरोना के कारण पूरे देश में तालाबंदी जैसे हालात, संक्रमित लोगों की संख्या 500 के करीब पहुंची

0
606

कोरोना वायरस के कारण भारत सहित कई देशों की रफ्तार थमती नजर आ रही है. सोमवार को कोविड-19 संक्रमित दो शख्स की मौत हो गई. एक दिन में कोरोना मामलों में यह सर्वाधिक वृद्धि है. इसके साथ ही महाराष्ट्र, पंजाब और गुजरात की सरकारों ने सोमवार को राज्यव्यापी कर्फ्यू लागू कर दिया जबकि भारत के अधिकतर हिस्सों में तालाबंदी हो गया है. उधर सोमवार को कई नए मामले आने के बाद देश में कोरोना से पीड़ितों की संख्या 492 हो गई है.

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए एयरलाइन भी मंगलवार रात से अपनी सेवाएं रोक देंगी. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक पश्चिम बंगाल और हिमाचल प्रदेश में सोमवार को एक-एक व्यक्ति की मौत हो गई जिससे देश में कोविड-19 से मरने वालों की कुल संख्या नौ हो गई. इससे पहले सात मौतें गुजरात, बिहार, कर्नाटक, दिल्ली, पंजाब और महाराष्ट्र (2) में हुई थीं. पूरी दुनिया में इस वायरस से अभी तक 15 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और करीब साढ़े तीन लाख लोग प्रभावित हुए हैं.

मिजोरम और सिक्किम में कोई मामला नहीं

देश के कुल 30 राज्यों के 548 जिलों में सरकार ने लॉकडाउन का ऐलान किया है. उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और ओडिशा में कई जिलों में आंशिक पाबंदियां लगाई गई हैं. सरकार ने जानकारी दी कि केवल मिजोरम और सिक्किम ही दो ऐसे राज्य हैं, जहां अब तक कोई समस्या सामने नहीं आई है.

नियम तोड़ने वालों की हो रही गिरफ्तारी

देश के कई हिस्सों में लगे कर्फ्यू के बावजूद बेवजह घर से निकल रहे लोगों के खिलाफ पुलिस शख्ती कार्रवाई कर रही है. कोलकाता में सोमवार रात को आदेश का पालन नहीं करने की वजह से 255 लोगों को धारा 188 के तहत गिरफ्तार किया गया. साथ ही देश के दूसरे राज्यों में भी नियम तोड़ने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है.

खुली हैं सब्जी-फल और राशन की दुकानें

देश के ज्यादातर हिस्सों में तालाबंदी जैसे हालात होने के बावजूद मंगलवार सुबह कई राज्यों में फल, सब्जी और राशन की दुकानें खुलीं हैं. इस दौरान लोग भारी संख्या में दुकानों के बाहर खड़े नजर आए और अपनी जरूरत की चीजों को खरीदते देखे गए. सरकार ने कहा है कि देश में राशन और कैश की किल्लत नहीं हैं.

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में आगे आया रिलायंस, गंभीर ने दी आर्थिक मदद