Gujarat Exclusive > गुजरात > माहवारी के दौरान महिला के हाथ का खाना खाने से कुत्ता और बैल का मिलेगा रुप: स्वामी कृष्णस्वरुप दास

माहवारी के दौरान महिला के हाथ का खाना खाने से कुत्ता और बैल का मिलेगा रुप: स्वामी कृष्णस्वरुप दास

0
1849

गुजरात के भुज इलाके में मौजूद स्वामीनारायण मंदिर द्वारा संचालित सहजानंद गर्ल्स इंस्टीट्यूट में छात्राओं के मासिक धर्म की जांच के लिए अंतर्वस्त्र उतरवाकर चेक करने का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था ऐसे में स्वामीनारायण मंदिर के एक महंत का विवादित वीडियो सामने आया है जिसमें वह खुले मन से महिलाओं के साथ भेदभाव को लेकर बोल रहे हैं. इतना ही नहीं वह कह रहे हैं कि मासिक धर्म के दौरान अगर महिला के हाथ से पका खाना अगर कोई पुरुष या फिर उसका पति खा लेता है तो वह कुत्ता और बैल का अवतार लेगा.

वीडियो में माहवारी के विषय पर स्वामी जी का संबोधन चल रहा है. इस दौरान उन्होंने कहा कि जिन महिलाओं को मासिक धर्म आता है, उनके हाथों से बना खाना नहीं खाना चाहिए. ऐसी महिलाओं के हाथों से भोजन करना कुत्ते और बैल का अवतार होगा. स्वामी का विवादित वीडियो वायरल होने के बाद लोग अलग-अलग तरह का सवाल पूछ रहे हैं. कि ऐसे स्वामी समाज की बुराईयों को कैसे खत्म करेंगे.

भुज मंदिर के स्वामी कृष्णस्वरुप दासजी का वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वह कह रहे हैं कि महिला के मासिक धर्म के दौरान उसके हाथ से बनी रोटी अगर कोई पुरुष या उसका पति खाता है, तो यह बैल और कुत्ते का अवतार लेगा, ऐसे में सवाल ये उठता है कि जब महिला सशक्तिकरण की चारो तरफ बात चल रही हो और महिला पुरुष के मुकाबले में कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हों. ऐसे मौके पर स्वामी का ऐसा विवादित बयान समाज को बड़ा नुकसान पहुंचा सकता है.