Gujarat Exclusive > राजनीति > महाराष्ट्र में BJP को लगा बड़ा झटका, एकनाथ खडसे ने दिया इस्तीफा

महाराष्ट्र में BJP को लगा बड़ा झटका, एकनाथ खडसे ने दिया इस्तीफा

0
317
  • महाराष्ट्र के कद्दावर नेता एकनाथ खडसे ने बीजेपी से दिया इस्तीफा
  • एनसीपी में शामिल होने की अटकलें हुई तेज
  • पार्टी से चल रहे थे खडसे नाराज
  • 2019 के चुनाव में पार्टी ने नहीं दिया था टिकट

महाराष्ट्र में जहां बीजेपी मंदिरों को खोलने की मांग को लेकर उद्धव सरकार का घेराव कर रही है. वहीं इस बीच जानकारी सामने आ रही है कि महाराष्ट्र में पार्टी को बड़ा झटका लगा है.

देवेंद्र फडणवीस की सरकार में मंत्री रह चुके एकनाथ खडसे ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है.

माना जा रहा है कि वह आज शाम एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपने इस्तीफे का आधिकारिक ऐलान कर सकते हैं.

एकनाथ खडसे ने दिया इस्तीफा

भारतीय जनता पार्टी का साथ छोड़ने वाले खडसे जल्द राष्ट्रवादी कांग्रेस का दामन थाम सकते हैं. महाराष्ट्र सरकार के मंत्री जयंत पाटिल ने दावा करते हुए कहा कि खडसे शुक्रवार को एनसीपी में शामिल होंगे.

मिल रही जानकारी के अनुसार वह दो दिन बाद एनसीपी की सदस्यता ले सकते हैं. एकनाथ खडसे पार्टी से काफी दिनों से नाराज चल रहे थे. इससे पहले भी उनके इस्तीफे की खबर सामने आई थी.

लेकिन वह सिर्फ अटकल ही साबित हुई थी.

यह भी पढ़ें: बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस ने जारी किया घोषणा पत्र, लगा दी वादों की झड़ियां

पार्टी से खडसे चल रहे थे नाराज

एकनाथ खडसे का नाम महाराष्ट्र में भाजपा के लिए जमीन तैयार करने वाले गिने-चुने नेताओं में शामिल है. लेकिन वह लंबे समय से पार्टी से नाराज चल रहे थे.

उनके करीबी सूत्रों का कहना है कि खडसे के मुताबिक पार्टी में रहने का अब कोई औचित्य नहीं है. खड़से के समर्थक मान रहे हैं कि पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की वजह से खडसे को साइड लाइन किया जा रहा है.

इसी वजह से वह नाराज चल रहे थे.

फडणवीस सरकार में रहते हुए उनके ऊपर 2015 में भ्रष्टाचार का आरोप लगा था. जिसके बाद एकनाथ खडसे ने इस्तीफा दे दिया था. उसके बाद से ही खडसे का राजनीतिक करियर ढलान पर था.

उन्होंने 2019 के विधानसभा चुनाव में टिकट मांगा था. लेकिन पार्टी ने उन्हें टिकट नहीं दिया था. जिसके बाद उन्होंने देवेंद्र फडणवीस के खिलाफ बगावती सुर अपना लिया था.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पश्चिम बंगाल दुर्गा पूजा पंडाल मामले को लेकर कलकत्ता हाईकोर्ट ने दी आंशिक ढील