Gujarat Exclusive > हमारी जरूरतें > कोरोना टीकाकरण: चुनाव आयोग ने अपने डाटा का इस्तेमाल करने की दी अनुमति

कोरोना टीकाकरण: चुनाव आयोग ने अपने डाटा का इस्तेमाल करने की दी अनुमति

0
346

कल यानी 16 जनवरी से देशभर में कोरोना टीकाकरण की शुरुआत होने जा रही है. ऐसे में चुनाव आयोग कोरोना (Election Commission) टीकाकरण अभियान के लिए बूथ स्तर पर लाभार्थियों की पहचान करने में सरकार की पूरी सहायता करेगा. हालांकि इसके लिए आयोग (Election Commission) ने शर्त रखी है कि टीकाकरण अभियान समाप्त होने के बाद स्वास्थ्य अधिकारी ये डाटा मिटा दें.

सूत्रों के मुताबिक, पिछले वर्ष 31 दिसंबर को केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा को पत्र लिखकर बूथ स्तर पर 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों की पहचान करने में मदद करने का आग्रह किया था.

यह भी पढ़ें: ऑस्ट्रेलियाई दर्शकों ने फिर की बदसलूकी, सिराज और सुंदर को कहा ‘कीड़ा’

गृह सचिव ने किया था अनुरोध

डाटा सुरक्षा के मुद्दे पर गृह सचिव ने लिखा था कि साइबर सुरक्षा के लिए सरकार वर्तमान में जारी बेहतर व्यवस्था का अनुपालन कर रही है. सूत्रों ने कहा कि उन्होंने चुनाव आयोग (Election Commission) को आश्वस्त किया है कि केवल टीकाकरण के लिए डाटा का इस्तेमाल किया जाएगा.

सूत्रों ने बताया कि चुनाव आयोग (Election Commission) ने विस्तृत विचार-विमर्श के बाद चार जनवरी को गृह सचिव को लिखा कि उसने टीकाकरण अभियान में पूरी सहायता करने का निर्णय किया है. साथ ही सरकार से कहा कि यह सुनिश्चित किया जाये कि डाटा का इस्तेमाल पूरी तरह से केवल टीकाकरण उद्देश्य के लिए किया जाएगा. आयोग (Election Commission) ने कहा है कि टीकाकरण अभियान समाप्त होते ही स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा डाटा को मिटा दिया जाना चाहिए.

कोरोना टीकाकरण अभियान के दिशानिर्देशों के मुताबिक लोकसभा और विधानसभा चुनावों की नवीनतम मतदाता सूची का इस्तेमाल 50 वर्ष से अधिक उम्र के प्राथमिकता वाली आबादी का पता लगाने में किया जाएगा. लाभार्थियों की पहचान के लिए मतदाता पहचान पत्र, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट और पेंशन दस्तावेज सहित 12 पहचान पत्रों की आवश्यकता होगी.

पीएम करेंगे अभियान की शुरुआत

बता दें कि सबसे पहले करीब एक करोड़ स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम मोर्चे के दो करोड़ कर्मियों को टीका दिया जाएगा. इसके बाद 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों और फिर अन्य बीमारियों से ग्रस्त 50 वर्ष से कम उम्र के लोगों को टीका दिया जाएगा. 16 जनवरी को भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में टीकाकरण अभियान की शुरुआत करेंगे. साथ ही वह को-विन ऐप को भी लॉन्च करेंगे.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें