Gujarat Exclusive > देश-विदेश > किसानों के आंदोलन का 33 वां दिन, केंद्र सरकार ने फिर दिया बातचीत का प्रस्ताव

किसानों के आंदोलन का 33 वां दिन, केंद्र सरकार ने फिर दिया बातचीत का प्रस्ताव

0
293

दिल्ली की सीमाओं पर किसान आंदोलन का आज 33 वां दिन है. केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसान संगठनों से बातचीत का फैसला किया है. farmer movement 33rd day

कल सुबह 11 बजे सरकार से अगले दौर की बातचीत का प्रस्ताव दिया है. farmer movement 33rd day

लेकिन सवाल यह उठ रहा है कि किसानों के आंदोलन को एक महीने से ज्यादा समय बीत गया लेकिन केन्द्र सरकार आंदोलन को खत्म कराने अब तक कोई ठोस पहल नहीं कर सकी है.

कांग्रेस ने पीएम मोदी पर बोला हमला

किसानों के आंदोलन का विपक्षी दल समर्थन कर रहे हैं. कांग्रेस का मानना है कि सरकार किसानों की मांग को लगातार नजरअंदाज कर विपक्ष पर किसानों को गुमराह करने का आरोप लगाकर वक्त बर्बाद कर रही है.

ताकि किसान थक जाएं और ठंडी के इस मौसम में आंदोलन धीमा पड़ जाए, लेकिन समय बितने के साथ किसान और मजबूत होकर आंदोलन को विस्तार दे रहे हैं. हजारों लोग हर दिन दिल्ली के लिए गांवों से कूच कर रहे हैं.

इतना ही नहीं कांग्रेस नेता ने दावा किया कि प्रधानमंत्री अपने संबोधन में भी किसानों को विश्वास नहीं दिला पाए. इसीलिए किसान आज भी कानून रद्द करने की लगातार मांग कर रहे हैं.

तीन तरफ से घिरी राजधानी दिल्ली  farmer movement 33rd day

कृषि कानून को लेकर आंदोलन करने वाले किसानों की वजह से राजधानी दिल्ली तीन तरफ से घिरी हुई है. दिल्ली में उत्तर प्रदेश और हरियाणा से आने वाले लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

सिंघु के साथ टीकरी, नोएडा और गाजीपुर बॉर्डर पर भी बड़ी संख्या में किसान जमा हैं और कृषि कानून वापस लेने की मांग कर रहे हैं. farmer movement 33rd day

किसानों का आंदोलन 33 वें दिन भी जारी है. माना जा रहा था कि वक्त के साथ आंदोलन का असर भी धीरे-धीरे कम हो जाएगा लेकिन आंदोलन अपनी ऊंचाइयों की ओर बढ़ता ही जा रहा है.

किसान संगठन के लोग आंदोलन को लेकर रणनीति के तहत काम कर रहे हैं. लेकिन आंदोलन की वजह से देश को अरबों रुपए का नुकसान होने की उम्मीद जताई जा रही है. केंद्र सरकार कानून रद्द नहीं करने का मन बना चुकी है.

वहीं किसान कानून को रद्द करने की मांग पर अड़े हुए हैं. किसान परिवार सहित दिल्ली पहुंच रहे हैं और ट्रैक्टर की ट्रालियों को ही अपना स्थाई आशियाना बना लिया है. farmer movement 33rd day

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

कांग्रेस का 136वां स्थापना दिवस, पार्टी मुख्यालय में फहराया गया झंडा