Gujarat Exclusive > देश-विदेश > भाजपा का दावा किसान आंदोलन हाईजैक, किसानों ने कहा बदनाम करने की साजिश

भाजपा का दावा किसान आंदोलन हाईजैक, किसानों ने कहा बदनाम करने की साजिश

0
412

कृषि कानून के खिलाफ आंदोलन कर किसानों को पहले तो अलग-अलग तरीकों से बदनाम करने की कोशिश की गई. Farmers Movement Hijack

लेकिन जब बात नहीं बनी तो दावा किया गया कि आंदोलन को अल्ट्रा-लेफ्ट नेताओं और प्रो-लेफ्ट विंग के चरमपंथी तत्वों ने हाईजैक कर लिया है.

इस लेकर खुफिया एजेंसियों ने कल सरकार को एक रिपोर्ट भेजकर जानकारी दे चुकी है. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इस दौरान हिंसा और आगजनी की घटना भी हो सकती है.

रिपोर्ट के दावे पर किसान नेताओं ने कहा कि आंदोलन बदनाम करने की साजिश रची जा रही है.

आंदोलन बदनाम करने की साजिश Farmers Movement Hijack

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने साफ कर दिया है कि कानून को रद्द करने से नीचे किसानों को कुछ भी मंजूर नहीं.

अगर सरकार बात करना चाहती है, तो पहले की तरह औपचारिक रूप से किसान नेताओं को सूचित करे.

इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि अगर बैन किए गए संस्थानों के लोग हमारे आंदोलन मे दिखते हैं तो सरकार को रिपोर्ट देने वाली खुफिया एजेंसी के लोग उनको पकड़कर जेल के हवाले कर दें.

हम इतने दिनों से आंदोलन कर रहे हैं लेकिन हमें अपने आंदोलनकर्ताओं के बीच ऐसा कोई शख्स दिखाई नहीं दे रहा है.

कांग्रेस ने भी बोला हमला

वहीं इस मामले को लेकर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोलते हुए कहा ” मोदी जी, लोकतंत्र में निरंकुशता का कोई स्थान नहीं. Farmers Movement Hijack

आप और आपके मंत्रियों की नीति हर विरोधी को माओवादी और देशद्रोही घोषित करने की है. भीषण ठंड और बरसात में जायज़ माँगों के लिए धरने पर बैठे अन्नदाताओं से माफ़ी माँगिए और उनकी माँगें तत्काल पूरी करिए.#किसान_आंदोलन.”

भाजपा ने विपक्ष पर लगाया आरोप Farmers Movement Hijack

भाजपा नेताओं से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक, कई मौकों पर कह चुके हैं कि विपक्ष किसानों को भड़का रहा है. Farmers Movement Hijack

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जो लोग बिल का विरोध करते हैं वे बिचौलियों के साथ हैं. वह किसानों को उनके हितों को समझने नहीं देते हैं.

बिचौलियों के माध्यम से मुनाफाखोरी करने वालों को किसानों का चिंता नहीं है. इतना ही नहीं कुछ नेता तो इस आंदोलन के पीछे पाकिस्तान और चीन का हाथ भी करार दे चुके हैं.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

किसान आंदोलन का 17 वां दिन, दिल्ली की ओर बढ़ रहे हजारों किसान