Gujarat Exclusive > किसान आंदोलन: एक और किसान का टूटा धैर्य, गाजीपुर बॉर्डर पर की आत्महत्या

किसान आंदोलन: एक और किसान का टूटा धैर्य, गाजीपुर बॉर्डर पर की आत्महत्या

0
243

किसान आंदोलन (Farmers Protest) के बीच किसानों के धैर्य का बांध टूटता जा रहा है. खबर है कि कृषि कानूनों के खिलाफ गाजियाबाद में दिल्ली बॉर्डर पर किसानों के धरने (Farmers Protest) में शामिल एक किसान ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है. किसान ने धरनास्थल पर शौचालय में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली.

मृत किसान का नाम कश्मीर सिंह बताया जा है जो कि यूपी के रामपुर का निवासी है. किसान कश्मीर सिंह ने आत्महत्या से पहले एक कथित सूइसाइड नोट छोड़ा है, जिसमें उन्होंने किसान आंदोलन (Farmers Protest) को लेकर एक अपील भी लिखी है.

यह भी पढ़ें: अहमदाबाद में कोरोना के नए स्ट्रेन की एंट्री, 4 संक्रमित मिले

सूसाइड नोट में क्या लिखा

आत्महत्या करने वाले किसान कश्मीर सिंह का जो कथित सूइसाइड नोट बरामद हुआ है, उसमें उन्होंने लिखा है कि उनकी शहादत बेकार ना जाए. कश्मीर सिंह ने यह भी लिखा है कि उनका अंतिम संस्कार दिल्ली यूपी की सीमा पर ही किया जाए. मालूम हो कि इससे पहले गाजीपुर सीमा पर शुक्रवार को एक किसान की दिल का दौरा पड़ने से मौत हुई थी.

जारी है धरना प्रदर्शन

बता दें कि कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का धरना (Farmers Protest) कड़ाके की सर्दी में भी जारी है. किसान पिछले 38 दिनों से धरने (Farmers Protest) पर बैठे हैं. किसान सरकार से बातचीत के पहले सख्त तेवर दिखा रहे हैं. किसानों ने साफ किया है कि उन्हें कृषि कानून वापस लिए जाने से कम मंजूर नहीं. कृषि कानून वापस लिए जाने तक आंदोलन (Farmers Protest) जारी रहेगा.

किसानों ने सख्त लिहाज में सरकार को चेतावनी दी है कि अगले दौर की बातचीत में कोई नतीजा नहीं निकला तो अपने आंदोलन को और तेज करेंगे. बता दें कि सरकार और किसान संगठनों के बीच पिछले सात दौर की बातचीत बेनतीजा रही है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें