Gujarat Exclusive > राजनीति > केजरीवाल बोले- अपने बच्चों को बॉर्डर पर भेजें किसान आंदोलन पर सवाल उठाने वाले

केजरीवाल बोले- अपने बच्चों को बॉर्डर पर भेजें किसान आंदोलन पर सवाल उठाने वाले

0
410

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों (Farmers Protest) के आंदोलन का आज 19वां दिन है. किसान लगातार अपनी बातों पर डटे हुए हैं. किसान संघों के प्रमुख आज एक दिन की भूख हड़ताल पर शाम 5 बजे तक उपवास पर रहे. किसान संगठन आज देशभर के जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन कर रहे हैं. वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी किसानों (Farmers Protest) के साथ खुद भी उपवास करने की घोषणा की है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि किसानों के प्रदर्शन (Farmers Protest) के नाम पर हम सियासत नहीं कर रहे हैं. मुझे किसानों से नहीं मिलने दिया गया. दिल्ली के सीएम ने नए कृषि कानूनों पर सवाल उठाते हुए कहा कि इसके आने से अनाज का दाम बढ़ जाएगा. उन्होंने कहा कि परिवार में एक बेटा किसान बना और दूसरा जवान. सवाल उठाने वाले अपने बच्चों को बॉर्डर पर भेजें.

यह भी पढ़ें: IIT मद्रास में फूटा कोरोना बम, 71 छात्र वायरस से संक्रमित हुए

वहीं दिल्ली सरकार में मंत्री गोपाल राय ने कहा, ‘आम आदमी पार्टी पहले दिन से किसानों के आंदोलन के समर्थन में है. हमने दिल्ली में स्टेडियम को जेल बनने से रोका, किसानों की सेवा कर रहे हैं. मुख्यमंत्री को हाउस अरेस्ट किया गया लेकिन हमारी लड़ाई और समर्थन जारी रहेगा.’

कृषि मंत्री से मिले 10 किसान यूनियन

उधर देशभर के करीब 10 किसान यूनियनों से बात करन के बाद केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा- आज आल इंडिया किसान समन्वय समिति के किसान आए थे. उन्होंने हमारे कृषि क़ानून का समर्थन किया है. उन्होंने कहा कि मोदीजी सरकार ने नेक काम किया है. हम चर्चा के लिए खुले हुए हैं. किसानों का कार्यक्रम चल रहा है, अगर बातचीत का कोई प्रस्ताव भेजेंगे तो करेंगे. हमारी इच्छा है कि किसान क़ानून (Farmers Protest) की हर धारा पर चर्चा करें.

बता दें कि किसान आंदोलन (Farmers Protest) को लेकर सोमवार को गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) के घर पर बैठक हुई. बैठक में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, कैबिनेट सेक्रेटरी राजीव गाबा और गृह सचिव अजय कुमार भल्ला मौजूद रहे.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें