Gujarat Exclusive > देश-विदेश > किसानों और सरकार के बीच दूसरे दौर की बातचीत भी रही बेनतीजा

किसानों और सरकार के बीच दूसरे दौर की बातचीत भी रही बेनतीजा

0
1044

कृषि कानूनों (Farmers Protest) के के मुद्दे पर किसानों और सरकार के बीच आज दूसरे दौर की बातचीत हुई लेकिन पहले दौर की तरह इस बार भी कोई नतीजा नहीं निकल सका. दिल्ली के विज्ञान भवन में दोपहर 12 बजे शुरू हुई ये बैठक करीब साढ़े सात घंटे चली. अब 5 दिसंबर को अगली बैठक होगी.

बैठक के बाद कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा,

‘किसानों के साथ फिर से एक बार परसों बैठक हो ताकि और ज्यादा स्पष्टता आए. किसान अपना आंदोलन  खत्म करें, सरकार का दरवाज़ा खुला है और मुद्दा व्यापक है, हम फिर बैठक करेंगे.’

यह भी पढ़ें: शहाबुद्दीन को मिली 3 दिनों की पैरोल, पिता की मौत के बाद कोर्ट में डाली थी अर्जी

एमएसपी में कोई बदलाव नहीं होगा

बैठक (Farmers Protest) में किसानों ने मांग रखी कि MSP पर पूरे देश में एक ठोस क़ानून हो अगर MSP से नीचे कोई ख़रीदे तो उसपर क़ानूनी कार्यवाही का कड़ा प्रावधान हो. इसके साथ ही किसानों ने दोहराई कि तीनों कानून (Farmers Protest) वापस हो और MSP पर एक क़ानून बने.

हालांकि कृषि मंत्री ने कहा,

‘हम चाहेंगे एमएसपी मजबूत हो. एमएसपी में कोई बदलाव नहीं होगा. SDM कोर्ट की वयवस्था इसलिए थी कि किसानों को सहायता मिले.’

किसानों की चिंता जायज

नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार और किसानों (Farmers Protest) ने अपना पक्ष रखा. किसानों की चिंता जायज है. सरकार किसानों के हित के लिए प्रतिबद्ध है. सरकार खुले मन से किसान यूनियन के साथ चर्चा कर रही है. किसानों की 2-3 बिंदुओं पर चिंता है. बैठक सौहार्द्रपूण माहौल में हुई. APMS को सशक्त बनाने के लिए सरकार विचार करेगी.

किसानों ने जताई चिंता

केंद्र सरकार के साथ बैठक के दौरान किसान नेताओं (Farmers Protest) ने शिकायत की कि जब हम बैठक के लिए आते हैं तो दिल्ली पुलिस जगह-जगह हमें रोक कर पूछताछ करती है, कहां जा रहे हैं ? क्यों जा रहे हैं ? आधा-आधा घंटा रोका जाता है. इस पर पीयूष गोयल ने कहा कि आप चिंता ना करे, अगली बार से दिल्ली पुलिस की गाड़ी आपके वाहन के आगे-आगे चलेगी.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें