Gujarat Exclusive > देश-विदेश > कोरोना का डर: मार्च में पंजाब आए 90,000 एनआरआई में से 16,000 की कोई खबर नहीं

कोरोना का डर: मार्च में पंजाब आए 90,000 एनआरआई में से 16,000 की कोई खबर नहीं

0
1379

देश में कोरोना वायरस को लेकर हाहाकार मचा हुआ है. लोगों पर निगरानी रखी जा रही है और लोगों को आने वाले भयानक सच से आगाह किया जा रहा है. पूरे देश में तालाबंदी की जा चुकी है और लोगों को घरों में रहने के आदेश दिए गए हैं. देश में कोरोना वायरस के मरीजों में कई विदेशों से लौटे भारतीय या एनआरआई हैं. इसी बीच पंजाब से आई एक खबर ने हड़कंप मचा दिया है.

खबरों के मुताबिक पिछले 50 दिनों में 1,70, 209 एनआरआई पंजाब आए. यह वह वक़्त था जब कोरोना वायरस चीन सहित कई देशों में पैर पसार चुका था. इनमें से 90 हज़ार तो इसी महीने आए हैं लेकिन भारत सरकार की कड़ी हिदायतों के बावजूद इनमें से अधिकांश ने मेडिकल जाँच नहीं करवाई. पंजाब स्थित इनके मूल आवासों पर नोटिस भेजे गए हैं. कई ऐसे अप्रवासी भारतीयों के घरों के बाहर पोस्टर चिपका दिए गए हैं.

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के चलते पंजाब में जो पहली मौत हुई थी, वह बुजुर्ग (70 वर्षीय) इटली से लौटे थे और वह मूल रूप से नवांशहर के बाशिंदे थे, अब उनके पोते में भी वायरस के घातक लक्षण पाए गए हैं और वह गहन निगरानी में हैं. मृतक बुजुर्ग अपने पोते के साथ कई जगह घूमे थे और उन्होंने लाखों श्रद्धालुओं की भीड़ के बीच श्री आनंदपुर साहिब के होला मोहल्ला के विशाल मेले में भी 3 दिन तक शिरकत की थी. पूरा पंजाब में प्रशासन इसीलिए उन लोगों की गहन जाँच करवा रहा है जिन्होंने उस अवधि में होला मोहल्ला के मेले में शिरकत की थी.

खबरों के मुताबिक सरकार 16,000 एनआरआई तक नहीं पहुँच पाई है. वे इसलिए भी सरकार की पहुँच से दूर हैं क्योंकि जो पते और संपर्क नंबर उन्होंने सरकार को दिए थे, वे या तो बदल चुके हैं या मौजूद नहीं हैं. इनमें से अकेले ज़िला जालंधर के 13650 एनआरआई हैं. सरकार सिर्फ़ 1301 को फ़िलहाल ढूँढ पाई है. जालंधर सहित पंजाब का समूचा दोआबा इलाक़ा एनआरआई बेल्ट के तौर पर जाना जाता है. पंजाब सरकार गहरी चिंता में है.

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिखकर इस बात की पुष्टि की है कि इस माह यानी मार्च में 90,000 एनआरआई पंजाब पहुँचे हैं और इनमें से बहुत लोगों में कोरोना के स्पष्ट लक्षण हैं. उन्होंने लिखा है कि ऐसे में स्वास्थ्य संबंधी तैयारियों के लिए पंजाब को तत्काल 150 करोड़ रुपए का विशेष पैकेज चाहिए ताकि राज्य में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए विशेष आइसोलेशन, वार्ड, आईसीयू विशेषज्ञों की सेवाएँ ली जा सके.

कोरोना के डर से देशभर में तालाबंदी जारी, केंद्र ने राज्यों को बताई आगे की रणनीति