Gujarat Exclusive > देश-विदेश > 45 साल बाद भारत-चीन सीमा पर फायरिंग, बौखलाए चीन ने लगाए झूठे आरोप

45 साल बाद भारत-चीन सीमा पर फायरिंग, बौखलाए चीन ने लगाए झूठे आरोप

0
614
  • चीन ने एक बार फिर से किया कायराना हमला
  • सोमवार रात को अतिक्रमण करने की कोशिश
  • भारतीय सेना ने चीनी सेना को पीछे खदेड़ा
  • बौखलाए चीन ने लगाए झूठे आरोप

पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में जून में चीन के कायराना हमले के बाद से सीमा पर हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं. दोनों देशों के बीच के रिश्ते को एक बार फिर से सामान्य बनाने के लिए सैन्य स्तर की बातचीत जारी है.

बावजूद इसके बीच-बीच में चीन की ओर से कायराना हमले होते रहते हैं. इस बीच जानकारी मिल रही है कि सोमवार रात चीन की ओर से एक बार फिर से अतिक्रमण करने की कोशिश की गई.

लेकिन सीमा पर तैनात भारतीय जवानों ने चीन के मंसूबे पर पानी फेर दिया.

45 साल बाद सीमा पर फायरिंग

मिल रही जानकारी के अनुसार बीते 45 सालों में सीमा पर जो नहीं हुआ था उस रास्ते पर चल निकला है चीन, चीन ने सोमवार रात को एलएसी पर आगे बढ़ने लगी.

इस दौरान भारतीय सेना ने चेतावनी के लिए हवा में फायरिंग किया जिसके बाद चीनी सेने का जवान पीछे हट गए. दोनों ओर से होने वाली फायरिंग में किसी को निशाना नहीं बनाया गया.

कुछ देर तक दोनों सेना की ओर से की जाने वाली फायरिंग के बाद अब हालात काबू में हैं.

यह भी पढ़ें: आगरा में केमिकल फैक्टरियों में लगी भीषण आग, पास के घरों को खाली कराया गया

बौखलाए चीन ने लगाए झूठे आरोप

मिल रही जानकारी के अनुसार रणनीतिक रूप से काला टॉप और हेल्मेट टॉप समेत पैंगोंग इलाके के कई हिस्सों में भारतीय सेना का कब्जा है. यही वजह है कि चीनी सेना बौखलाई हुई है.

चीन की ओर से होने वाले इस कायराना हमले के बाद चीन की ओर से एक बयान जारी किया गया है जिसमें आरोप लगाया गया है कि वार्निंग शॉट दागे जाने के बाद उसे मजबूरी में जवाबी फायरिंग करनी पड़ी.

इतना ही नहीं चीन ने भारत पर आरोप लगाते हुए कहा कि भारतीय सेना के जवानों ने उनपर पेंगोंग त्सो झील के दक्षिण तट के पास शेन्पाओ पर्वत क्षेत्र के पास गोलीबारी की.

गौरतलब है कि इसी साल जून महीने में पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सेना की ओर से कायराना हमला किया गया था. जिसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे.

इस हादसे के बाद से लगातार सीमा पर तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है. गौरतलब है कि 1975 के बाद ऐसा पहली बार हुआ है जब चीन और भारत की सीमा पर फायरिंग हुई हो.

दोनों देशों के बीच गोली न चलाने और किसी की जान न गंवाने को लेकर समझौता किया गया है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

बीते 24 घंटों में दर्ज हुए 75 हजार से ज्यादा कोरोना के नए मामले, 1133 की मौत