Gujarat Exclusive > राजनीति > ‘पहले मतदान फिर जलपान’ का नहीं दिख रहा असर, आईये जानते हैं कब हुए थे कितने फीसद मतदान

‘पहले मतदान फिर जलपान’ का नहीं दिख रहा असर, आईये जानते हैं कब हुए थे कितने फीसद मतदान

0
306

दिल्ली विधानसभा चुनावों के लिए सभी 70 सीटों पर वोटिंग शुरू हो गई है. मतदान के लिए सुबह से ही पोलिंग बूथ पर वोटरों की भीड़ दिखाई दे रही है. दिल्ली के 1 करोड़ 47 लाख 86 हजार वोटर सभी 70 सीटों पर 672 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला आज EVM में बंद कर रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जहां दिल्ली चुनाव को लेकर ट्वीट करते हुए कहा कि कहा कि सभी मतदाताओं से मेरी अपील है कि वे अधिक से अधिक संख्या में लोकतंत्र के इस महोत्सव में भाग लें और वोटिंग का नया रिकॉर्ड बनाएं. खासतौर पर युवा आज रिकॉर्ड तोड़ वोटिंग करें. वहीं केजरीवाल ने लोकतंत्र के इस महापर्व में महिलाओं से बढ़ चढ़कर हिस्से लेने की अपील की. लेकिन अभी तक चुनाव के जो नतीजे सामने आ रहे हैं उसे देखकर लगता है कि जलपान से पहले मतदान का स्लोगन काम नहीं कर रहा.

चुनाव आयोग की तमाम कोशिशों के बावजूद दिल्ली के वोटरों पर खास असर दिखाई नहीं दे रहा है और अभी तक तक वोटिंग प्रतिशत काफी कम है. सुबह 8 बजे मतदान शुरू होने के बाद दो घंटों के अंदर महज 4.33 फीसदी मतदान हो पाया है, जो पिछले चुनावों की तुलना में बेहद कम है. 2015 के विधानसभा में दिल्ली की जनता ने जोश दिखाया था. उस चुनाव में सुबह से ही वोटरों के बीच जोश देखने को मिला था.

सुबह 9 बजे तक 2015 में 5.4 फीसदी मतदान हुआ था, जबकि मौजूदा चुनाव की बात की जाए तो अभी तक यह प्रतिशत महज 3 है. यानी 9 बजे तक की वोटिंग में पिछले चुनाव की तुलना में इस बार काफी निराशा देखने को मिल रही है. सुबह 10 बजे तक का भी हाल यही है. 2015 में शुरुआती दो घंटों में 7.3 फीसदी वोटिंग हुई थी, जबकि फिलहाल 10 बजे तक महज 4.7 फीसदी वोट ही पड़ सके हैं. यानी पिछले चुनाव की तुलना में यह 2.6 प्रतिशत कम है.

आईये जानते हैं कब-कब कितने फीसदी मतदान

दिल्ली विधानसभा चुनाव में साल 2015 के चुनाव में 67.12 फीसदी मतदान हुआ था. वहीं, 2013 के विधानसभा चुनाव में वोटिंन प्रतिशत 65.63 रहा. इससे पहले 2008 के विधानसभा चुनाव में दिल्ली में 57.58 फीसदी लोगों ने वोटिंग की थी तो 2003 के विधानसभा चुनाव में 53.42 फीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था.

1977 में सबसे ज्यादा वोटिंग रिकॉर्ड

हालांकि, दिल्ली में अभी तक 71.3 फीसदी मतदान का रिकॉर्ड है जो 1977 में हुआ था. लेकिन यह रिकॉर्ड 1993 में दिल्ली केंद्रशासित प्रदेश में विधानसभा चुनाव की प्रक्रिया शुरू होने से पहले का रिकॉर्ड है.

दिल्ली चुनाव आयोग ने इस बार ज्यादा से ज्यादा वोटिंग कराने की तैयारी की है, इसके जरिए 2015 का रिकॉर्ड तोड़ने की हर संभव कोशिश की है. दिल्ली में करीब 1.25 लाख सुरक्षाकर्मी वोटिंग के मद्देनजर सुरक्षा मोर्चा संभाले हुए हैं. वहीं, मेट्रो सुबह चार बजे से शुरू हो गई है और 80 साल से अधिक उम्र के और दिव्यांग वोटरों के लिए मुफ्त परिवहन की व्यवस्था चुनाव आयोग ने की है.

दिल्ली में कितने मतदाता

दिल्ली की सभी 70 विधानसभा सीटों पर कुल 1 करोड़ 47 लाख 86 हजार वोटर हैं. इनमें से पुरुषों की संख्या 81.05 लाख है, वहीं महिला वोटरों की संख्या 66.80 लाख है. पहली बार वोट डालने वालों की संख्या 2.32 लाख है.