Gujarat Exclusive > देश-विदेश > 115 साल के इतिहास में पहली बार, रमजान में नहीं ले सकेंगे टुंडे कबाब का जायका

115 साल के इतिहास में पहली बार, रमजान में नहीं ले सकेंगे टुंडे कबाब का जायका

0
518

आज से रमजान का पाक महीना शुरू हो गया है. लॉकडाउन के चलते मुस्लिम समुदाय के लोगों से घरों में रहकर इबादत करने की अपील की जा रही है. वहीं लॉकडाउन ने इस बार रमजान के महीने में जायका भी बिगाड़ दिया है. आपको बता दें कि पूरे भारत में वैश्विक महामारी को फैलने से रोकने के लिए देशभर में तीन मई तक लॉकडाउन किया गया है, ऐसे में कुछ दुकानों को छोड़कर सबकुछ बंद है. लखनऊ शहर के कई लोकप्रिय रेस्तरां भी बंद हैं.

लॉकडाउन के चलते पहली बार रमजान के मौके पर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में स्थित प्रसिद्ध टुंडे कबाब की दुकान बंद है. 115 साल के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है जब टुंडे कबाब की दुकान बंद है.

दुकान के मालिक मोहम्मद उस्मान ने कहा कि पुराने लखनऊ में 1905 में मेरे दादा ने यह दुकान शुरू की थी. पहली बार ऐसा होगा कि रमजान के महीने में दुकान बंद है और हम रोजेदारों को कवाब और अन्य व्यंजन नहीं खिला पाएंगे.

एक स्थानीय व्यक्ति ने बताया कि यह दुकान आजतक कभी बंद नहीं हुई. खासतौर से रमजान के महीने में तो यहां रात के एक-दो बजे तक भीड़ रहती है, लेकिन इस बार यहां सब सन्नाटा है. लखनऊ के संभागीय आयुक्त मुकेश मेश्राम ने कहा कि हमने कोई बंद करने की पहल नहीं की. मांस की दुकानें बंद हैं क्योंकि उनमें से किसी ने भी एफएसडीए (खाद्य सुरक्षा और औषधि प्रशासन) से अनिवार्य लाइसेंस नहीं खरीदे हैं.

महंगाई भत्ता रोके जाने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका, कांग्रेस भी कर चुकी है विरोध