Gujarat Exclusive > राजनीति > राहुल गांधी के आरोपों से भड़के गुलाम नबी आजाद ने की इस्तीफे की पेशकश

राहुल गांधी के आरोपों से भड़के गुलाम नबी आजाद ने की इस्तीफे की पेशकश

0
505

कांग्रेस वर्किंग कमेटी में नेतृत्व परिवर्तन और संगठन चुनाव की मांग को लेकर अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे गए खत के मामले को लेकर हंगामा जारी है.

बैठक की शुरूआत में सोनिया गांधी ने साफ कर दिया कि वह अब अध्यक्ष पद पर नहीं रहना चाहती. जिसके बाद कुछ नेताओं ने उनको मनाने की कोशिश की.

लेकिन बैठक में हंगामा उस दौरान शुरू हो गया जब लेटर लिखे जाने की टाइमिंग पर राहुल गांधी ने सवाल खड़ा किया और भाजपा के साथ सांठगांठ का आरोप लगा दिया.

राहुल के आरोपों से भड़के कांग्रेसी नेता

राहुल के इस आरोप से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद भड़क गए उन्होंने राहुल का नाम लिए बिना कहा कि भाजपा के साथ सांठगांठ का आरोप अगर सही साबित होता है तो मैं इस्तीफा दे दूंगा.

वहीं इस मामले को लेकर खत लिखने वाले कपिल सिब्बल ने फौरन ट्वीट कर हमला बोलते हुए कहा कि हर मौके पर पार्टी के साथ खड़े रहने के बावजूद भी हमारे ऊपर भाजपा के साथ मिलने का आरोप लग रहा है.

राहुल गांधी ने खत के टाइमिंग पर खड़ा किया था सवाल

कांग्रेस वर्किंग कमेटी में पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी नेतृत्व में बदलाव की मांग को लेकर लिखे गए पत्र के टाइमिंग पर सवाल खड़ा किया है.

उन्होंने कहा कि पार्टी जब मध्य प्रदेश और राजस्थान में पैदा हुए सियासी संकट का सामना कर रही थी और अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी बीमार चल रही थी.

ऐसे वक्त पर क्यों लिखा गया इतना ही नहीं उन्होंने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि पत्र मीडिया में कैसे पहुंच गया. उन्होंने पत्र के लिखे जाने पर बीजेपी के सांठगांठ का भी आरोप लगाया.

यह भी पढ़ें: बगावती पत्र लिखे जाने पर नाराज राहुल गांधी, भाजपा से सांठगांठ का आरोप

खत लिखे जाने पर प्रियंका और मनमोहन सिंह नाराज

मिल रही जानकारी के अनुसार कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने भी खत लिखे जाने के मामले को लेकर नाराजगी जताते हुए कहा कि गुलाम नबी आजाद जो कह रहे हैं.

उसके मुकाबले खत में उन्होंने कुछ अलग ही लिखा है. वहीं इस मामले को लेकर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी नाराज नजर आ रहे हैं.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं द्वारा चिट्ठी लिखा जाना दुर्भाग्यपूर्ण है और आलाकमान और कांग्रेस को कमजोर करने की कोशिश है.

गौरतलब है कि बीते दिनों गुलाम नबी आजाद सहित दो दर्जन से ज्यादा कांग्रेस नेताओं ने पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को खत लिखकर पार्टी में बड़े पैमाने पर बदलाव की मांग किया था.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

राहुल का मोदी सरकार पर तंज, 1 नौकरी, एक हजार बेरोजगार, क्‍या कर दिया देश का हाल