Gujarat Exclusive > राजनीति > फाइव स्टार होटलों में बैठक कर कांग्रेस नहीं जीत पाएगी चुनाव: गुलाम नबी आजाद

फाइव स्टार होटलों में बैठक कर कांग्रेस नहीं जीत पाएगी चुनाव: गुलाम नबी आजाद

0
408

बिहार विधानसभा चुनाव और कई राज्यों में होने वाले उपचुनाव में कांग्रेस को मिली शर्मनाक हार के बाद अब कांग्रेस के कई दिग्गज नेता पार्टी आलाकमान को आईना दिखाने लगे हैं.

कपिल सिब्बल के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि कांग्रेस के नेता कार्यकर्ताओं से अलग हो गए हैं. Ghulam Nabi Azad

इतना ही नहीं उन्होंने पार्टी आला कमान पर हमला बोलते हुए कहा कि पार्टी में ‘पांच सितारा संस्कृति’ घर कर गई है. चुनाव फाइव स्टार होटलों में बैठक करके नहीं जीता जा सकता.

कार्यकर्ताओं से दूर हो चुके हैं कांग्रेस के नेता

राज्यसभा सांसद गुलाम नबी आजाद यहीं पर नहीं रुके उन्होंने कहा कि संगठनात्मक ढांचे में आमूल चूल परिवर्तन आज की सख्त जरूरत है.

आजाद ने कहा कि ब्लॉक से लेकर जिला और राज्य स्तर तक चुनाव कराकर पार्टी के ढांचे में परिवर्तन जरूरत महसूस की जा रही है.

गुलाम नबी ने कांग्रेस आलाकमान पर अपनी भड़ास निकालते हुए कहा कि पार्टी का पूरा ढांचा ध्वस्त हो चुका है. उन्होंने राहुल गांधी को इशारों में नया लड़का करार दिया.

कपिल सिब्बल भी आत्मनिरीक्षण करने की दे चुके हैं सलाह Ghulam Nabi Azad

बिहार के साथ-साथ मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और गुजरात सहित कई अन्य राज्यों में होने वाले उपचुनाव में कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा.

पार्टी के नेताओं के अलावा, गठबंधन के नेता भी हार से परेशान हैं और कांग्रेस को आत्मनिरीक्षण करने की सलाह दे रहे हैं.

बिहार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन को मिलने वाली हार का जिम्मेदार कांग्रेस को माना जा रहा है.

इस बीच कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने भी आलाकमान को आत्मनिरीक्षण करने की सलाह देकर एक नया विवाद खड़ा कर दिया है. Ghulam Nabi Azad

यह भी पढ़ें: कपिल सिब्बल पर भड़के अधीर रंजन, कहा-बिना कुछ किए बोलना आत्मनिरीक्षण नहीं

अंग्रेजी अखबार ‘इंडियन एक्सप्रेस’ से बातचीत में कपिल सिब्बल ने कहा, न केवल बिहार में, बल्कि जहां भी उपचुनाव हुए हैं, कांग्रेस को एक प्रभावी विकल्प नहीं मानते हैं. यह एक निष्कर्ष है. बिहार में राजद ही एकमात्र विकल्प था.

हम गुजरात में सभी उपचुनाव हार गए. हम लोकसभा चुनाव में एक भी वहां एक सीट नहीं जीत पाए. उत्तर प्रदेश की कुछ सीटों पर कांग्रेस उम्मीदवारों को 2 फीसदी से भी कम वोट मिले.

मुझे उम्मीद है कि कांग्रेस आत्मनिरीक्षण करेगी. Ghulam Nabi Azad

आजाद इससे पहले पत्र लिखकर संगठन में बदलाव की कर चुके है मांग

कांग्रेस में नेतृत्व परिवर्तन की मांग को लेकर बीते दिनों कांग्रेस के 23 वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा था. इस पत्र को लेकर CWC बैठक में जमकर हंगामा हुआ था.

इस बैठक में कांग्रेस और पार्टी को नसीहत देने वाले नेता आमने-सामने हो गए थे. कांग्रेस जहां नाराज नेताओं को मनाने की कोशिश कर रही है.

वहीं दूसरी तरफ आरोप लगने के बाद पार्टी के राज्यसभा सदस्य और वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस को बड़ी नसीहत देते हुए कहा कि अगर अध्यक्ष पद के लिए पार्टी में चुनाव नहीं होता तो पार्टी अगले 50 सालों तक विपक्ष में बैठी रहेगी. Ghulam Nabi Azad

उन्होंने समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत करते हुए कहा कि “जो लोग खत लिखे जाने के मामले का विरोध कर रहे हैं. उन्हें मालूम है कि चुनाव होने पर वे कहीं नहीं होंगे.

इतना ही नहीं उन्होंने ने इशारों-इशारों में हमला करते हुए कहा कि जो लोग कांग्रेस की भलाई चाहते हैं वह पत्र का स्वागत करेंगे. Ghulam Nabi Azad

आजाद ने कहा,”जब आप चुनाव लड़कर अध्यक्ष पद को संभालते हैं तो कम से कम 51 प्रतिशत आपके साथ होते हैं और आप पार्टी के भीतर केवल 2 से 3 लोगों के खिलाफ चुनाव लड़ते हैं.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

कपिल सिब्बल ने फिर कांग्रेस नेतृत्व का उठाया मुद्दा, कहा- पार्टी बदलाव के लिए नहीं है गंभीर