Gujarat Exclusive > गुजरात > कोरोना संकटकाल में भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही का रिकॉर्ड, 2020 में 198 मामले

कोरोना संकटकाल में भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही का रिकॉर्ड, 2020 में 198 मामले

0
260

गांधीनगर: कोरोना महामारी के कठिन समय में भी रिश्वतखोर अधिकारियों ने अपनी आदत से बाज नहीं आए. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) द्वारा की गई कार्रवाई ने 2020 में नया रिकॉर्ड बनाया है.

कोरोना के दौर में भी, गुजरात एसीबी ने अब तक उन लोगों के खिलाफ रिकॉर्ड कार्रवाई की है, जिन्होंने रिश्वत के जरिए आय से अधिक संपत्ति अर्जित की है. Gujarat ACB Case

बीते साल सबसे ज्यादा दर्ज हुए मामले

साल 2020 यानी एक साल में आय से ज्यादा संपत्ति के 38 मामले सामने आए हैं. जो पिछले वर्ष 2019 में 18 मामलों की तुलना में दोगुना है.

2020 में एसीबी ने 38 आरोपियों के खिलाफ मामले दर्ज करके 60 करोड़ की बेनामी संपत्ति का पता लगाया है. Gujarat ACB Case

यह जानकारी वर्ष 2020 के अंतिम दिन एसीबी द्वारा आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में दी गई. संवाददाता सम्मेलन में जानकारी देते हुए बताया कि 38 आरोपियों में 3 क्लास वन अधिकारी, क्लास -2 के 11 अधिकारी और क्लास -3 के 24 से ज्यादा अधिकारियों पर आय से ज्यादा संपत्ति के मामले में केस दाखिल किया गया है.

6 साल में 105 लोगों पर दर्ज हुआ मुकदमा Gujarat ACB Case

एसीबी के मुताबिक, पिछले छह वर्षों में धन उगाही करने वाले 106 सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई है. इनमें से 2015 में 8, 2016 में 21, 2017 में 8, 2019 में 18 और 2020 में 38 मामले दर्ज किए गए हैं. Gujarat ACB Case

307 को रिश्वत लेते किया गिरफ्तार

एसीबी ने 2020 यानी बीते एक साल में रिश्वतखोरी के 198 मामले दर्ज किए हैं और 307 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार किए गए आरोपियों में सबसे ज्यादा 159 क्लास -3 के कर्मचारी हैं.

जिसके बाद 97 बिचौलियों को गिरफ्तार किया गया है. इसके अलावा 41 क्लास -2 अधिकारी, 7 क्लास -1 और 3 क्लास -4 के अधिकारियों को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया. Gujarat ACB Case

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

सोशल मीडिया पर फर्जी अकाउंट बनाकर, दोस्त को बदनाम करने वाली महिला गिरफ्तार