Gujarat Exclusive > गुजरात > जमालपुर में गुमनाम काबलीवाला क्या AIMIM को गुजरात में तीसरा मोर्चा बना पाएंगे?

जमालपुर में गुमनाम काबलीवाला क्या AIMIM को गुजरात में तीसरा मोर्चा बना पाएंगे?

0
1552

अभिषेक पाण्डेय, अहमदाबाद: गुजरात के मुस्लिमों को तीसरा विकल्प देने का दावा कर गुजरात में कदम रखने वाली असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन गुजरात के मुस्लिमों को कैसे तीसरा विकल्प दे पाएगी जब अभी तक पार्टी ने स्थानिक बॉडी की रचना ही नहीं कर पाई. Gujarat AIMIM Kabaliwala

हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने 19 जनवरी शाम को ट्वीट कर ऐलान किया था कि पूर्व विधायक साबिर काबलीवाला को गुजरात में पार्टी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है.

19 तारीख के 5 दिनों के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस किया गया. उम्मीद जताई जा रही थी की अच्छी पार्टी की तरीके से पहले जमीनी हकीकत को समझा जाएगा और स्थानीय बॉडी की रचना की जाएगी.

लेकिन इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में हवा हवाई बातों को कहते हुए दावा किया गया कि पार्टी सिर्फ और सिर्फ अहमदाबाद और भरूच में चुनाव लड़ेगी. Gujarat AIMIM Kabaliwala

लेकिन ऐसे में सवाल ये उठता है कि क्या बिना जमीनी हकीकत समझे बिना और स्थानीय बॉडी की रचना के बिना ही चुनाव जीत जाएगी? Gujarat AIMIM Kabaliwala

साबिर काबलीवाला को नई जिम्मेदारी मिलने के 5 दिन बाद भी वह हरकत में नहीं आए ना ही गुजरात के मुस्लिमों के मसले को समझने की कोशिश की.

ना ही मुस्लिमों की आवाज उठाने वाले सामाजिक कार्यकर्ताओं से मुलाकात, इतना ही नहीं 5 दिनों के अंदर उन्होंने ऐसा कुछ नहीं किया जिससे यह कहा जा सके कि ओवैसी की पार्टी गुजरात के मुस्लिमों को तीसरा सियासी विकल्प देने के लिए पूरी तैयारी के साथ मैदान में उतरी है. Gujarat AIMIM Kabaliwala

ऐसे में लोग सवाल करने लगे हैं कि क्या असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी गुजरात के मुस्लिमों के धार्मिक भावनाओं के मद्देनजर रखते हुए चुनाव जीत जाएगी.

ऐसा नहीं तो फिर चुनाव जीतने के लिए दूसरी पार्टियां जिस तरीके से बूथ लेवल पर काम करती हैं. जमीनी हकीकत को समझने के लिए सर्वे करती हैं.

उम्मीदवारों के चयन के लिए पैनल बनती है उसी तरीके से इन नई पार्टी को भी काम करना पड़ेगा. Gujarat AIMIM Kabaliwala

गुजरात में एंट्री के बाद आज पार्टी ने अपने बैनर के साथ पहला प्रेस कॉन्फ्रेंस किया. लेकिन इस पत्रकार वार्ता में भी ऐलान नहीं किया गया कि पार्टी किस दिशा और दशा में काम करेगी.

पार्टी में काम करने वाले किन-किन लोगों को चुना जाएगा. इतना ही नहीं मुस्लिम इलाकों के सर्वे की ना ही बात की गई, ना ही विकास के मामले में दलित बने मुस्लिम इलाकों में होने वाली सुविधाओं को लेकर समाधान की. Gujarat AIMIM Kabaliwala

बस प्रेस कॉन्फ्रेंस में हवा हवाई बात का ऐलान किया गया कि पार्टी आने वाले दिनों में भरूच में बीटीपी के साथ और अहमदाबाद में अकेले 15 सीटों पर चुनाव लड़ेगी.

ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि साबिर काबलीवाला गुजरात के मुस्लिमों की नब्ज को टटोलने में कितना कामयाब होते हैं.  Gujarat AIMIM Kabaliwala

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

मंदिर के शरण में AIMIM के नवनियुक्त गुजरात अध्यक्ष साबिर काबलीवाला