Gujarat Exclusive > गुजरात > किसान आंदोलन कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और वामपंथ से प्रेरित: सीआर पाटिल

किसान आंदोलन कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और वामपंथ से प्रेरित: सीआर पाटिल

0
300

सूरत: कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का विरोध प्रदर्शन 21 वें दिन भी जारी है. दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर किसान डेरा जमा कर आरपार की लड़ाई के लिए बैठे हैं. Gujarat BJP President

किसान जहां कृषि कानून को वापस लेने की मांग कर रहे हैं. वहीं केंद्र सरकार किसानों के साथ बैठक कर कोई बीच का रास्ता निकालने की कोशिश कर रही है.

लेकिन न तो सरकार कानून वापस लेने को तैयार है और न ही किसान पीछे हटने को तैयार. केंद्र सरकार को जहां एक तरफ किसानों के विरोध का सामना करना पड़ रहा है वहीं विपक्ष भी इस मामले पर हमलावर हो गई है.

भाजपा लगातार दावा कर रही है कि किसानों का आंदोलन राजनीतिक पार्टियों के द्वारा प्रेरित है. Gujarat BJP President

सीआर पाटिल ने विपक्षी दल पर बोला हमला  Gujarat BJP President

गुजरात भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल ने किसानों के आंदोलन के मुद्दे पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस मौके पर सीआर पाटिल ने विपक्ष पर हमला करते हुए कहा कि किसान आंदोलन कांग्रेस, आप और वाम दलों से प्रेरित है.

चुनाव के समय फायदा उठाने के लिए अराजकता फैलाने की कोशिश की जा रही है. देश के समझदार नागरिकों ने उनका समर्थन नहीं किया. सरकार किसानों के बीच जागरूकता पैदा करने की कोशिश कर रही है.

कृषि कानून से किसानों की आए होगी दोगुनी  Gujarat BJP President

इतना ही नहीं भाजपा के गुजरात प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल ने कहा, “यह बिल किसानों के हित में है. कांग्रेस ने कभी भी किसानों के हित की बात नहीं की है. Gujarat BJP President

किसानों की आय बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी द्वारा कई प्रयास किए गए हैं. इतना ही नहीं पाटिल ने आगे कहा, “किसानों की आय पीएम मोदी के इस फैसले से बढ़ जाएगी.

कांग्रेस पर हमला बोलते हुए पाटिल ने कहा कि कांग्रेस के समय में विदेशों से लाखों करोड़ों का गेहूं आयात कराना पड़ता था. किसानों के स्वास्थ्य को खतरे में डालने वाला अनाज उनको दिया जाता था.

सीआर पाटिल ने चेतावनी देते हुए कहा कि किसान मित्रों को भ्रम फैलाने वालों से सावधान रहना होगा. ऐसे लोगों की पहचान करें. समझें कि इससे देश को कितना नुकसान हो रहा है.

केवल दो राज्यों में ही यह आंदोलन क्यों चल रहा है? सबसे अधिक उत्पादन मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में किसानों द्वारा किया जाता है. जहां कोई आंदोलन नहीं है. Gujarat BJP President

गुजरात के समृद्ध और सामान्य किसान भी इस आंदोलन में शामिल नहीं हुए हैं. विपक्ष योजना बनाकर देश को अस्थिर करने की कोशिश कर रही है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

PM मोदी फिर से बन सकते हैं गुजरात का मेहमान, अगले महीने दो बड़े कार्यक्रम