Gujarat Exclusive > गुजरात > गुजरात उपचुनाव: कांग्रेस के चुनावी प्रचार का आगाज, विश्वासघात शब्द पर जोर

गुजरात उपचुनाव: कांग्रेस के चुनावी प्रचार का आगाज, विश्वासघात शब्द पर जोर

0
603

गांधीनगर: गुजरात में 8 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव की उल्टी गिनती शुरू हो गई है. उपचुनाव में जीत हासिल करने के लिए सभी पार्टियां कमर कस ली हैं.

जहां सभी उम्मीदवार मतदाताओं को अपनी ओर रिझाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं. वहीं दूसरी ओर गुजरात कांग्रेस ने ‘विश्वासघात’ नामक अभियान शुरू कर उपचुनाव को और दिलचस्प बना दिया है.

इस बार गुजरात कांग्रेस ने उपचुनाव प्रचार में विश्वासघात पर कई नारे बनाकर बीजेपी को घेरने की रणनीति बना रही है.

गुजरात कांग्रेस ने “गुजरात नहीं सहेगा धोखा” “गुजरातियों की एक बात विश्वासघातियों को देंगे मात” और “गुजरात के मतदाताओं के साथ विश्वासघात” जैसे नारों के साथ भाजपा पर हमला करना शुरू कर दिया है.

अमित चावड़ा ने भाजपा पर लगाया गंभीर आरोप

इस सिलसिले में जानकारी देते हुए कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अमित चावड़ा ने भाजपा पर आरोप लगाया और कहा, “मतदाताओं के विश्वास के साथ विश्वासघात किया गया है. गद्दारों को जनता जवाब देगी.

भाजपा विधायकों को पैसे देकर खरीदा है. भाजपा भर्ती प्रक्रिया में युवाओं का मजाक उड़ाया है. गुजरात सरकार ने गुजरात के किसानों के साथ धोखा किया है. यह सरकार सभी मोर्चों पर विफल रही है.

इतना ही नहीं उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस के उम्मीदवार तमाम 8 सीटों पर कामयाबी हासिल करेंगे.

कांग्रेस के चुनावी प्रचार का आगाज

उल्लेखनीय है कि गुजरात में होने वाले उपचुनाव की उलटी गिनती शुरू हो गई है. कांग्रेस आज से अपने चुनावी प्रचार का आगाज करेगी.

अमित चावड़ा, परेश धनानी और हार्दिक पटेल सहित कई नेता उपचुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार के तरफ माहौल तैयार करने के लिए प्रचार करेंगे. भाजपा के स्टार प्रचारक भी कल से चुनाव प्रचार का आगाज करेंगे.

उल्लेखनीय है कि गुजरात की 8 विधानसभा सीटों के लिए 3 नवंबर को होने वाले उपचुनाव में 81 उम्मीदवार मैदान में हैं.

कांग्रेस विधायकों के इस्तीफे के बाद अबडासा, लिंबडी, मोरबी, धारी, गढडा, करजण, डांग और कपराडा सीट पर चुनाव होने वाले हैं.

कांग्रेस उपचुनाव में विश्वासघात शब्द पर जोर देते हुए चुनावी अभियान आगाज कर रही है. कांग्रेस के 8 विधायकों ने राज्यसभा चुनाव से बिल्कुल पहले कांग्रेस के साथ विश्वासघात कर इस्तीफा दे दिया था.

ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि कांग्रेस की यह पहल मतदाताओं को अपनी तरफ खींचने में कितना कामयाब होती है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

परेश धनाणी ने कसा दलबदलुओं पर तंज, कहा- गांडो हालशे पण गद्दार नहीं