Gujarat Exclusive > गुजरात एक्सक्लूसिव > गुजरात कांग्रेस ने नौकरियों पर लगाया था प्रतिबंध, PR एजेंसी की वजह से बदले अंदाज में नजर आए सीएम रुपाणी

गुजरात कांग्रेस ने नौकरियों पर लगाया था प्रतिबंध, PR एजेंसी की वजह से बदले अंदाज में नजर आए सीएम रुपाणी

0
152

गांधीनगर, तुंवर मुजाहिद: ​गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने नये साल के मौके पर एक वीडियो के माध्यम से गुजरात के युवाओं को संबोधित किया. वीडियो के जरिए रूपाणी ने गुजरात के युवाओं को नये साल की शुभकामनाएं दी. इस वीडियों के जरिये रुपाणी ने सरकार के द्वारा युवाओं के लिए क्या कुछ किया गया इसकी जानकारी देने के साथ ही साथ कांग्रेस पर एक नहीं बल्कि कई गंभीर आरोप भी लगाते हुए नजर आए.

सीएम विजय रूपाणी ने वीडियो के जरिये नौजवानों को संबोधित करते हुए कहा कि, “हमारी सरकार ईमानदार, प्रमाणिक और होनहार छात्रों की मेहनत बेकार ना जाए इसको लेकर चिंतित है. इसीलिए मेरी सरकार ने पिछले तीन वर्षों में 1 लाख 18 हजार युवाओं को रोजगार दिया है और इस वर्ष 34 से 35 हजार नौजवानों को रोजगार देने का प्लान बना चुकी है.”

सीएम रूपाणी ने गुजरात के तमाम बेरोजगार नौजवानों को नौकरी देने का वादा करते हुए कहा कि, हमारी सरकार का मंत्र है ‘हर हाथ को काम, हर खेत को पानी’ इतना ही नहीं बिन सचिवालय परीक्षा मामले को लेकर होने वाले आंदोलन को लेकर उन्होंने कहा कि पिछले काफी वक्त से युवाओं और छात्रों को अपनी राजनैतिक रोटी सेंकने के लिए कांग्रेस गुमराह करके भ्रम पैदा करने की कोशिश कर रही है.

सीएम रूपाणी ने इस वीडियो में कहा है कि उनकी सरकार साढ़े पांच हजार नौकरी मेला का आयोजन कर 12 लाख से ज्यादा छात्रों को विभिन्न सेक्टर में नौकरी देने की कोशिश कर रही है, इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि गुजरात में होने वाली स्पर्धात्मक परीक्षा को और ज्यादा पारदर्शी बनाने के लिए बिन सचिवालय परीक्षा को रद्द करने के मामले पर खुद की पीठ थपथपाते हुए नजर आये.

इन सभी के बीच सीएम रूपाणी ने कांग्रेस पर एक नहीं बल्कि कई गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि “कांग्रेस के शासन में नौकरियों पर प्रतिबंध लगा दिया गया. उन्होंने किसी को नौकरी दी ही नहीं थी लेकिन हमारी सरकार से दरवाजा खोल दिया है.” अभी तक कांग्रेस ने सीएम रुपाणी द्वारा लगाए गए आरोपों पर किसी तरीके की प्रतिक्रिया नहीं दी है.

इस तरह देखा जाए तो सीएम रूपाणी वीडियो में नये साल के मौके पर तीन नया काम किया है. 1. सोशल मीडिया के माध्यम से सीएम ने युवाओं से सीधे जुड़ने की कोशिश की है. 2 जनता के बीच अपनी नई छाप विकसित करने की कोशिश की है. 3 शांत रुपाणी की जगह पर सीधा कांग्रेस पर शाब्दिक प्रहार कर एक आक्रामक और मजबूत नेता के रूप में सामने आने की कोशिश की है, इस वीडियो बाद ऐसा भी कुछ लोगों का कहना है कि वह प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की छत्रछाया में, नहीं बल्कि समकक्ष में खड़े हैं.

सीएम रूपानी की बदलती छवि से सभी लोग आश्चर्यचकित है, लेकिन गुजरात एक्सक्लूजिव को मिलने वाली जानकारी के अनुसार इस यह नई इमेज बिल्डिंग (पीआर) एजेंसी का प्रभाव है. जो आने वाले दिनों में और भी अधिक खिलेगा और सीएम रुपाणी आधी पिच में आकर 20-20 खेलने के बजाय नॉन-स्ट्राइकर एंड पर जाकर गेंद को से बाउंड्री से पाकर कर दे तो कोई आश्चर्य नहीं. मुसलमानों के लिए भले ही 150 देश हों, लेकिन रूपानी साहब को एक ही पिच पर कई पारियां खेलनी है.

कांग्रेस का आरोप, ‘राफेल’ से भी बड़ा किया है गुजरात की बीजेपी सरकार ने घोटाला