Gujarat Exclusive > गुजरात > कांग्रेस का सीएम रूपाणी पर पलटवार, दिल्ली के रिमोट से चलती है गुजरात सरकार

कांग्रेस का सीएम रूपाणी पर पलटवार, दिल्ली के रिमोट से चलती है गुजरात सरकार

0
536

अहमदाबाद: केंद्र की मोदी सरकार द्वारा लागू तीनों विवादित कृषि कानून के खिलाफ आंदोलनरत किसानों ने 8 दिसंबर को देशव्यापी बंद का ऐलान किया है. Gujarat Congress India closed

गुजरात कांग्रेस ने भी भारत बंद की घोषणा का समर्थन किया है. गुजरात प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अमित चावड़ा ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मुख्यमंत्री विजय रूपाणी पर हमला किया.

अमित चावड़ा ने कहा कि भाजपा का कृषि विरोधी और किसान विरोधी चेहरा बेनकाब हो गया है. Gujarat Congress India closed

भाजपा का खेती विरोधी और किसान विरोधी चेहरा बेनकाब हो गया Gujarat Congress India closed

अमित चावड़ा ने कहा, “देश में भाजपा सरकार द्वारा काले कानून को लागू करने पर देश भर के किसान नाराज हैं. भाजपा का खेती विरोधी और किसान विरोधी चेहरा बेनकाब हो गया है.

इतना ही नहीं उन्होंने रूपाणी पर हमला बोलते हुए कहा कि दिल्ली से हिंदी की कॉपी को गुजराती में अनुवाद किया गया है. इससे साफ जाहिर हो जाता है कि मुख्यमंत्री के पास गुजरात के लिए कोई अलग विचार नहीं है.

गुजरात के किसानों के लिए कोई नीति नहीं है. दिल्ली की तरह गुजरात में भी किसान विरोधी सरकार है. Gujarat Congress India closed

जिस तरीके से रूपाणी ने दिल्ली के कॉपी का अनुवाद किया है उसे देखकर लगता है कि गुजरात सरकार को दिल्ली से चलाया जा रहा है.”

मुख्यमंत्री पुलिस का डर दिखाकर लोगों को डराने की कर रहे हैं कोशिश

गुजरात प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, “ऐसा लगता है कि सरकार सभी संगठनों के साथ आने से घबरा गई है. मुख्यमंत्री पुलिस का डर दिखाकर लोगों को डराने की कोशिश कर रहे हैं.

लेकिन गांधी के गुजरात में ऐसी धमकी स्वीकार्य नहीं है. यह आंदोलन देश के किसानों को इंसाफ दिलाने के लिए किया जा रहा है. किसान संगठनों ने 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान किया है.

यह किसानों के अधिकारों की लड़ाई है. इसमें कांग्रेस सहित सभी विपक्षी दलों ने समर्थन दिया है. किसान इस कानून से उसके ही खेत में मजदूर बन जाएंगे.” Gujarat Congress India closed

किसान और खेती को नष्ट करने की साजिश

अमित चावड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए आगे कहा, “एपीएमसी की व्यवस्था को समाप्त हो जाएगी और यदि यह प्रणाली समाप्त हो जाती है, तो अकेले किसानों को नुकसान नहीं होगा बल्कि एपीएमसी से जुड़े छोटे और बड़े व्यवसायों को भी नुकसान होगा. Gujarat Congress India closed

ऐसी परिस्थितियों में, बाजार बंद हो जाएगा और किसानों को भारी नुकसान होगा.” भाजपा पर हमला करते हुए, अमित चावड़ा ने कहा, “पूरे देश में खेती और भूमि उद्योगपतियों के हाथों में आ जाएगी.

इससे जमाखोरी बढ़ जाएगी, काला बाजारी भी बढ़ जाएगी.”

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

गुजरात में भारत बंद का कैसा होगा असर, आइए जानते हैं क्या रहेंगे बंद