Gujarat Exclusive > गुजरात > उपचुनाव को लेकर गुजरात कांग्रेस ने 18 संभावित उम्मीदवारों के नाम स्क्रीनिंग कमेटी को भेजे

उपचुनाव को लेकर गुजरात कांग्रेस ने 18 संभावित उम्मीदवारों के नाम स्क्रीनिंग कमेटी को भेजे

0
277
  • गुजरात की 8 विधानसभा उपचुनाव को लेकर जोरों पर तैयारियां
  • भाजपा के बाद कांग्रेस ने 18 संभावित उम्मीदवारों का लिस्ट तैयार किया
  • संभावित 18 दावेदारों के नाम स्क्रीनिंग कमेटी को भेजा

अहमदाबाद: गुजरात विधानसभा की 8 सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर दोनों पार्टिया जमकर तैयारी कर रही हैं.

कांग्रेस जहां एक बार फिर से उन सीटों को जीतने की पूरी कोशिश कर रही जिस पर उनके पार्टी के उम्मीदवारों ने पिछले चुनाव में कामयाबी हासिल की थी.

वहीं भाजपा भी इस उपचुनाव में कामयाबी हासिल करने के लिए अपना पूरा जोर लगा रही है. इस बीच जानकारी सामने आ रही है कि कांग्रेस की ओर से 18 दावेदार चुनाव लड़ने की तैयारी दिखा रहे हैं.

कांग्रेस 18 संभावित उम्मीदवारों के नाम स्क्रीनिंग कमेटी को भेजा

मिल रही जानकारी के अनुसार कांग्रेस की ओर से 18 दावेदारों का नाम स्क्रीनिंग कमेटी को भेज दिया गया है. अगले 2 दिनों में स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक आयोजित की जाएगी.

जिसमें इन नामों पर चर्चा की जाएगी. मिल रही जानकारी के अनुसार कांग्रेस भी उपचुनाव में कामयाबी हासिल करने के लिए भाजपा की राह पर कांग्रेस भी चल रही है और चुनाव जीतने के लिए रणनीति बना रही है.

राज्यसभा चुनाव से पहले दिया था इस्तीफा

उल्लेखनीय है कि गुजरात विधानसभा की आठ सीटों पर 3 नवंबर को उपचुनाव होने वाला है. राज्यसभा चुनाव के दौरान आठ कांग्रेसी विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था.

जिसकी वजह से यह आठों सीट खाली हो गई थी. यह उपचुनाव उन आठ सीटों पर होगा, जिन पर कांग्रेसी विधायकों ने राज्यसभा चुनाव के दौरान इस्तीफा दे दिया था.

इसमें अबडासा, लिंबडी, करजन, डांग, कपराडा, मोरबी, गढडा और धारी का नाम शामिल है.

यह भी पढ़ें: गुजरात विधानसभा उपचुनाव से पहले एक्शन मोड में बीजेपी

उपचुनाव से पहले जनता के बीच पहुंचने के लिए भाजपा ने अपनाया टेक्नोलॉजी

इस हेल्प डेस्क का उद्घाटन गुजरात के मुख्यमंत्री विजयभाई रूपाणी ने किया. बीजेपी ने एक व्हाट्सएप हेल्प डेस्क शुरू की है ताकि नागरिक सरकारी योजनाओं के बारे में घर बैठे जानकारी हासिल कर सकें.

विभिन्न सरकारी योजनाओं की जानकारी इस हेल्प डेस्क के माध्यम से उपलब्ध होगी. इस डिजिटल हेल्प डेस्क से कुछ ही मिनटों में हकीकत का पता लगाया जा सकता है.

इतना ही नहीं अब आम आदमियों को सरकारी योजना की जानकारी हासिल करने के लिए विभागों का चक्कर भी नहीं लगाना पड़ेगा.

उपचुनाव से ठीक पहले भाजपा डिजिटल माध्यम से लोगों तक पहुंचने का एक नया तरीका अपनाया है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अहमदाबाद में आईटी विभाग की छापेमारी, पॉपुलर ग्रुप के बिल्डर पर कसा शिकंजा