Gujarat Exclusive > गुजरात > गुजरात में 1.5 लाख कोरोना केस, अब तक 3560 लोगों की मौत

गुजरात में 1.5 लाख कोरोना केस, अब तक 3560 लोगों की मौत

0
307

गुजरात में कोरोना वायरस के मामले (Gujarat Covid-19 Cases) पिछले कुछ दिनों में कम संख्या में आ रहे हैं. हालांकि ये संख्या इतनी भी कम नहीं है कि राहत की सांस ली जा सके. अब गुजरात में कोरोना संक्रमितों (Gujarat Covid-19 Cases) की कुल संख्या डेढ लाख को पार कर गई है. आज राज्य में 1221 नए मामले सामने आए. इसके साथ ही संक्रमितों की कुल संख्या 1,50,415 हो गई है.

वहीं प्रदेश में मरने वालों की संख्या में भी गिरावट दर्ज की गई है. इसी बीच आज राज्य में 10 और लोगों की मौत हो गई. कोरोना से अब तक राज्य में 3560 लोगों की मौत हो चुकी है.

यह भी पढ़ें: नवरात्रि: अहमदाबाद के डॉक्टरों ने अपमानजनक पोस्ट को लेकर की कार्रवाई की मांग

1.3 लाख लोगों ने दी मात

मौजूदा समय में 15,958 सक्रिय मामले हैं, जबकि 1,30,897 लोग कोरोना को मात देने में सफल हुए हैं. गुजरात में कुल सक्रिय मामलों (Gujarat Covid-19 Cases) में से 81 लोग वेंटिलेटर पर हैं. वहीं 15,877 लोग स्थिर हालात में हैं. आज राज्य में कुल 1456 मरीज ठीक हुए. वहीं 51,228 कोरोना टेस्ट किए गए. इसके साथ राज्य में अब तक 49,61,455 कोरोना टेस्ट किए गए हैं. वहीं राज्य में कोरोना रिकवरी रेट 87.02 प्रतिशत है.

नए मामलों और मौतों की स्थिति

आज राज्य में कुल 10 लोग कोरोना के कारण जान गंवा बैठे. इनमें से अहमदाबाद कॉर्पोरेशन में 4, गांधीनगर और सूरत कॉर्पोरेशन में 2-2 जबकि राजकोट और सूरत में एक-एक व्यक्ति की मौत हो गई.

नए मामलों (Gujarat Covid-19 Cases) की बात करें तो आज सूरत कॉर्पोरेशन में 171, अहमदाबाद कॉर्पोरेशन में 163, सूरत में 81, राजकोट कॉर्पोरेशन में 82, वडोदरा कॉर्पोरेशन में 78, जामनगर कॉर्पोरेशन में 69, वडोदरा में 41, मेहसाणा में 35 और बनासकांठा और भरूच में 34-34 मामले दर्ज किए गए.

चुनावी रैलियों में उमड़ रही भीड़

उधर नवरात्रि में गरबा के नहीं आयोजित होने से राज्य में अलग-अलग वर्गों में विवाद बना हुआ है. इस बीच नवरात्रि और चुनावों को लेकर राज्य सरकार की दोहरा मानदंड सामने आए हैं. कई लोग गरबा को कोरोना से डरने पर प्रतिबंध लगाने की ओर इशारा कर रहे हैं, लेकिन उपचुनावों को देखते हुए राज्य में चुनावी रैलियों की अनुमति दी गई है. इन रैलियों में हजारों की संख्या में लोग इक्कठे हो रहे हैं और सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ा रहे हैं. ऐसे में सरकार के दोहरे मानदंडों को लेकर विवाद खड़ा होता दिखाई दे रहा है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें