Gujarat Exclusive > गुजरात > चीन के रिकॉर्ड को गुजरात ने किया धराशायी, 6 दिनों में 2200 बेड का कोविड हॉस्पिटल तैयार

चीन के रिकॉर्ड को गुजरात ने किया धराशायी, 6 दिनों में 2200 बेड का कोविड हॉस्पिटल तैयार

0
6266

गुजरात में कोरोना वायरस के 53 मरीज सामने आ चुके हैं. इसमें से 4 की मौत भी हो चुकी है. पूरे राज्य में कोरोना के कहर का सामना करने के लिए गुजरात ने हॉस्पिटल तैयार करने के मामले में चीन को पीछे छोड़ दिया है. चीन ने 10 दिनों में 1000 बेड का हॉस्पिटल बनाया था, तो गुजरात ने केवल 6 दिनों में ही 2200 बेड का हॉस्पिटल बनाकर चीन का रिकॉर्ड तोड़ दिया है.

गुजरात सरकार ने राज्य के 4 शहरों में 2200 बेड के स्पेशल कोविड हॉस्पिटल बनाने की घोषणा कर तुरंत उस पर अमल करना शुरू कर दिया था. फिर केवल 6 दिनों में 2200 बेड का कोविड हॉस्पिटल बनाकर तैयार कर दिया. इसमें अहमदाबाद में सबसे बड़ा 1200 बेड का, इसके बाद सूरत में 500 बेड का, फिर वडोदरा-राजकोट में 250-250 बेड का हॉस्पिटल बना दिया. इन अस्पतालों ने काम भी करना शुरू कर दिया है. कोरोना पॉजीटिव मरीज से किसी और को संक्रमण न हो, इसलिए इस हॉस्पिटल में केवल कोरोना से संक्रमित मरीजों को ही भर्ती किया जा रहा है. यह हॉस्पिटल सभी तरह की सुविधाओं और दवाओं के साथ डब्ल्यू एच ओ और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइड लाइन के अनुसार काम कर रहा है.

राजकोट सिविल हॉस्पिटल की नई बिल्डिंग सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल के चौथे माले को आइसोलेशन वार्ड बनाया गया. वहां पर 200 बेड की व्यवस्था की गई. इस हॉस्पिटल में इंफेक्टिव-डीसीज कंट्रोेल हॉस्पिअल के रूप में आईडेंटीफाई कर आइसोलेशन वार्ड के मरीजों को इसमें दाखिल किया गया. अभी इस हॉस्पिटल को कोविड 19 के रूप में पहचाना जाएगा. आवश्यकता पड़ने पर राजकोट के अलावा अन्य जिलों के मरीजों को आइसोलेटेड किया जाएगा. इसी के साथ-साथ क्राइस्ट हॉस्पिटल में 50 बेड का आइसोलेशन वार्ड भी तैयार किया गया है.

गुजरात में कोरोना का कहर 

कोरोना वायरस के तेजी से बढ़ते मामलों को लेकर सरकार ने पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन किया है. शनिवार सुबह तक इन मामलों की संख्या 900 के करीब पहुंच चुकी थी और इसी में गुजरात में भी 6 नए मामले सामने आए हैं. इसके साथ ही राज्य में कोरोना वायरस से पीड़ितों की संख्या 53 हो गई है. राज्य के वडोदरा में जहां 9 मामले सामने आए हैं वहीं सबसे ज्यादा अहमदाबाद में 18 केस मिले हैं. इसके अलावा गांधीनगर और सूरत में 8 और 7 केस मिले हैं. राजकोट में 8, मेहसाणा में 1 कच्छ में 1 और भावनगर में 1 केस सामने आया था. इन 53 पॉजिटिव मामलों में से 3 की मौत हो चुकी है और 3 ठीक हो चुके हैं.

बेअसर PM मोदी की अपील, तालाबंदी की वजह से रसोई गैस की मांग में 20 फीसदी बढ़ोतरी