Gujarat Exclusive > गुजरात > गुजरात के डीजीपी शिवानंद झा ने तबलीगी जमात को लेकर कहा…

गुजरात के डीजीपी शिवानंद झा ने तबलीगी जमात को लेकर कहा…

0
1997

गांधीनगर: गुजरात में कोरोना वायरस के बढ़ते आतंक के बीच आज चार नए मामले सामने आए हैं. जिसके बाद राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 179 हो गई है. ऐसे में गुजरात पुलिस तालाबंदी का पालन करने की लोगों से अपील कर रही है. आज गुजरात के डीजीपी शिवानंद झा ने एक प्रेस कान्फ्रेंस का आयोजन कर कहा कि तबलीगी जमात के लोगों के संपर्क में आने से राज्य में तीन गुना लोग कोरोना का शिकार बने हैं. तबलीगी जमात मरकज से आने वाले 127 लोगों की पहचान हो चुकी है. जिनमें से 11 लोगों की रिपोर्ट आई है पॉजिटिव. बाकी तमाम लोगों कोरोंटाइन किया गया है.

डीजीपी शिवानंद झा ने जानकारी देते हुए कहा है कि अहमदाबाद में बढ़ते कोरोना के आतंक को लेकर कुछ इलाकों को बंद कर दिया गया है. वहीं कुछ जगहों पर थर्मल स्क्रीनिंग शुरू हो गई है. राज्य में पर्याप्त पुलिस बंदोबस्त का आयोजन किया गया है. पुलिस कार्रवाई के बारे में जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि कुल 6,151 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इसके अलावा सीसीटीवी की फुटेज के आधार पर अब तक 700 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

गुजरात के गांवों को लेकर महत्वपूर्ण निर्णय

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को लेकर देश में इन दिनों 21 दिनों की लंबा तालाबंदी चल रही है. पुलिस प्रमुख शिवानंद झा ने तालाबंदी का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का आदेश दिया है. गुजरात के शहरी इलाकों की तरफ गांवों में भी तालाबंदी को सख्त करने का आदेश दिया है, राज्य के सभी गांवों में पुलिस को दो शिफ्टों में ड्यूटी करने का आदेश दिया है.

आखिरी दिनों में पुलिस सख्ती से करेगी काम

कोरोना के आतंक से ग्रामीण इलाकों को बचाने के लिए विशेष सावधानी बरती जा रही है. ग्रामीण क्षेत्रों में पुलिस के गश्त को बढ़ाने का निर्देश दिया गया है. इतना ही नहीं बल्कि लोगों से अपील की गई है कि शहर से आने वाले लोगों को कोरोन्टाइन में रखने को कहा गया है. इतना ही नहीं डीजीपी ने तालाबंदी के दौरान दी जाने वाली परमीट का गलत इस्तेमाल नहीं करने का भी निर्देश दिया है.

इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि लगातार ड्यूटी पर रहने वाले पुलिस अधिकारियों और पुलिस कर्मियों के स्वास्थ्य की जांच की जा रही है. हर पुलिसकर्मी के स्वास्थ्य पर नजर रखी जा रही है. अधिक से अधिक ड्रोन और सीसीटीवी का इस्तेमाल किया जा रहा है. साथ ही साथ लोगों को सलाह देते हुए कहा कि बिना कारण के घर से बाहर न जाएं पास धारक अपने पास का दुरुपयोग न करें अगर ऐसा करते हुए किसी को पकड़ा गया तो परमिट निरस्त किया जाएगा और कड़ी कार्रवाई भी की जाएगी.

कोरोना रिपोर्ट- 7: गुजरात में 10 लाख ऑटो रिक्शा चालक बेरोजगार, UP बिहार की बड़ी तादाद