Gujarat Exclusive > गुजरात > कोरोना की वजह से लागू प्रतिबंधों को हटाने को लेकर दुविधा में गुजरात सरकार

कोरोना की वजह से लागू प्रतिबंधों को हटाने को लेकर दुविधा में गुजरात सरकार

0
191

गांधीनगर: गुजरात में कोरोना वायरस के नए मामलों की संख्या में कमी आई है. जिसकी वजह से सरकार रियायतें देना शुरू कर दिया था. लेकिन अब कोरोना के नए वेरिएंट ने लोगों में डर पैदा कर रहा है. केंद्र के निर्देश पर गुजरात सरकार ने विदेश से आने वाले सभी लोगों के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट अनिवार्य करने का आदेश दिया है. ग्राम पंचायत चुनाव और वाइब्रेंट समिट 2022 की तैयारियों के बीच प्रतिबंध हटाने को लेकर सरकार असमंजस में है.

आपको बता दें, 30 नवंबर को कोरोना की वजह से लागू प्रतिबंध खत्म होने जा रहा है. वाइब्रेंट गुजरात समिट और ग्राम पंचायत चुनाव की वजह से सरकार अब इस दुविधा में है कि प्रतिबंध हटाया जाए या नहीं. फिर सबकी निगाह इस बात पर है कि राज्य सरकार अब क्या फैसला लेती है.

अहमदाबाद समेत आठ महानगरों में नाइट कर्फ्यू लागू है. गांधीनगर में गृह मंत्री हर्ष सांघवी और अतिरिक्त गृह सचिव के बीच बैठक हुई, जिसमें इस बात पर चर्चा की गई कि नाइट कर्फ्यू को पूरी तरह से हटाया जाए या इसे बरकरार रखा जाए.

गौरतलब है कि इससे पहले जानकारी सामने आई थी कि एक दिसंबर से अहमदाबाद-गांधीनगर और अन्य जगहों पर होने वाले प्री-वाइब्रेंट इवेंट के तहत एक के बाद एक कार्यक्रम होंगे जिसकी वजह से गुजरात सरकार 8 महानगरों में लगे नाइट कर्फ्यू को 1 दिसंबर से पूरी तरीके से हटाने का प्लान बना रही है. लेकिन अब नए वेरिएंट की वजह से गुजरात सरकार की परेशानी बढ़ गई है क्योंकि वाइब्रेंट गुजरात में नए वेरिएंट से प्रभावित देश से जुड़े लोग इसमें शामिल होने के लिए आने वाले हैं.

गुजरात में अगले 2 दिनों तक भारी बारिश का अनुमान, किसानों की बढ़ी चिंता