Gujarat Exclusive > गुजरात > गुजरात में विरोध का अनोखा तरीका, खेतों में भरे पानी में तैराकी प्रतियोगिता का आयोजन

गुजरात में विरोध का अनोखा तरीका, खेतों में भरे पानी में तैराकी प्रतियोगिता का आयोजन

0
598
  • गुजरात में लगातार होने वाली बारिश से किसान परेशान
    किसानों के तरफ ध्यान आकर्षित करने के लिए अनोखा विरोध प्रदर्शन
    खेतों में भरे पानी में तैराकी प्रतियोगिता का आयोजन
    विजेता तैराक को पुरस्कार के रूप में दिया गया लॉलीपॉप

जामनगर: गुजरात में इस साल मानसून सीजन ने कई सालों के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है. लगातार होने वाली बारिश की वजह से सौराष्ट्र और कच्छ में चारो तरफ पानी ही पानी नजर आ रहा है.

भारी बारिश की वजह से जन जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है.

इस साल देवभूमि द्वारका के कई जिले में मूसलाधार बारिश होने की वजह से कल्याणपुर तहसील के कई इलाकों में भारी मात्रा में पानी भरने की वजह से बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई है.

किसानों के तरफ ध्यान आकर्षित करने के लिए अनोखा विरोध प्रदर्शन

लगातार हो रही मूसलाधार बारिश की वजह से गांव सहित खेतों में भी बारिश का पानी भर गया है.

किसान कांग्रेस ने किसानों और ग्रामवासियों को होने वाली परेशानी की तरफ ध्यान आकर्षित करने के लिए अनोखा विरोध प्रदर्शन किया है.

किसान कांग्रेस नेता पाल आंबलिया ने जामरावल गांव के खेतों में भरे पानी में तैराकी प्रतियोगिता का आयोजन किया है.

सरकार के विरोध में आयोजित इस तैराकी प्रतियोगिता में 10 से अधिक प्रतियोगियों ने हिस्सा लिया. इतना ही नहीं विजेता तैराक को पुरस्कार के रूप में लॉलीपॉप दिया गया.

यह भी पढ़ें: चीन से जारी तनाव के बीच लद्दाख पहुंचे सेनाध्यक्ष नरवणे, हालात का ले रहे हैं जायजा

किसान कांग्रेस ने किया विरोध प्रदर्शन

इस सिलसिले में जानकारी देते हुए कांग्रेस किसान नेता पाल अंबालिया ने कहा भले ही कल्याणपुर तहसील के जामरवाल इलाके में लगातार होने वाली बारिश की वजह से यह परिस्थिति उत्पन्न हुई है.

लेकिन इसके लिए सिर्फ प्रकृति जिम्मेदार नहीं है. इस परिस्थित के लिए जिला के सरकारी अधिकारी भी समान रूप से जिम्मेदार हैं.

राज्य सरकार की असफलता को दिखाने के लिए और सरकार का किसानों की ओर ध्यान आकर्षित करने के लिए खेतों में तैराकी प्रतियोगिताओं का आयोजन कर विरोध प्रदर्शन किया गया है.

उल्लेखनीय है कि देवभूमि द्वारका जिले में इस साल भारी बारिश के की वजह से किसानों के खेत में खड़ी बाजरी, जुआर और मूंगफली फसलें बर्बाद हो गई हैं.

इन जगहों पर अभी भी भारी बारिश हो रही है जिसकी वजह से किसानों को इससे भी ज्यादा नुकसान होने की उम्मीद जताई जा रही है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

कोरोना का डर: गुजरात में 45% छात्रों ने छोड़ी JEE की परीक्षा