Gujarat Exclusive > गुजरात > सौराष्ट्र में ‘मेघ कहर’, नदियों ने धारण किया रौद्र रूप कई गांवों से टूटा संपर्क

सौराष्ट्र में ‘मेघ कहर’, नदियों ने धारण किया रौद्र रूप कई गांवों से टूटा संपर्क

0
430
  • गुजरात में जारी है मूशलाधार बारिश का सिलसिला
    अगले 2 दिनों तक भारी से अतिभारी बारिश का पूर्वानुमान
    मेघ कहर की वजह से कई गांवों का संपर्क टूटा

राजकोट: मौसम विभाग के भारी बारिश के पूर्वानुमान के बीच सौराष्ट्र के जिलों में मेघराज तूफानी बल्लेबाजी कर रहे हैं.

जूनागढ़, राजकोट, भावनगर, जामनगर, जूनागढ़ और गिर-सोमनाथ सहित जिलों में भारी बारिश की वजह से स्थानिक नदियों ने रौद्र रूप धारण कर लिया है.

भारी बारिश और बाढ़ की स्थिति पैदा होने की वजह से कई गावों से संपर्क टूट गया है.

लगातार होने वाली भारी बारिश की वजह से तटीय इलाक और निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को अलर्ट कर दिया गया है. भारी बारिश की वजह से जिला की ज्यादातर जलाशय में ओवरफ्लो हो गए हैं.

कई गांवों से टूटा संपर्क

भावनगर जिले में भारी बारिश के कारण जिले के घेलो, कालुभार और केरी नदियों का जलस्तर बढ़ गया है. जिसकी वजह से कई गांवों में जलभराव की स्थिति पैदा हो गई है.

गिर-सोमनाथ में भारी बारिश के बाद झुडवडली गांवों में नदी का पानी घुस गया है.

इतना ही नहीं खेतों में पानी भरने की वजह से प्याज, मूंगफली और कपास की फसल पूरी तरह से खराब होने का अंदेशा है.

खेत में पानी भरने से फसल खराब होने की चिंता

अगर जामनगर की बात करें तो यहां 13 घंटों में 8 इंच बारिश के कारण शहर के अधिकांश निचले इलाकों में पानी भर गया है. भारी बारिश की वजह से जिला कलेक्टर कार्यालय और तहसील पंचायत कार्यालय में भी पानी भर गया था.

इसके अलावा बारिश का पानी सरकारी कॉलोनी, सांसद पूनम मैडम के घर और जजिस बंगलों में भी पानी घुस गया था.

इस साल पहली बार ऐसा हुआ है कि जिन इलाकों में कभी भी पानी नहीं भरता था वहां भी पानी भर गया. ऐसी सोसायटी और इलाके भी इस साल जलमग्न हो गए.

दूसरी ओर जिले के 6 तहसीलों में पिछले 24 घंटों के दौरान 1.5 से 9 इंच बारिश हुई. सबसे अधिक वर्षा वसई इलाके में 245 मिमी दर्ज की गई. जबकि ध्रोल जिले में सबसे कम 42 मिमी बारिश दर्ज की गई.

यह भी पढ़ें: गुजरात में दर्ज हुई सीजन की 113 % बारिश, अगले दो दिनों तक भारी बारिश का पूर्वानुमान

जामनगर में बाढ़ की स्थिति

जामनगर शहर के साथ मेघ का कहर ग्रामीण इलाकों में भी देखने को मिल रहा है. स्थिति ऐसी हो गई है कि जहां तक नजर जाती है सिर्फ और सिर्फ पानी नजर आता है.

भारी बारिश और जलभराव की स्थित पैदा होने की वजह से किसान फसल खराब होने की वजह से परेशान नजर आ रहे हैं.

देवभूमि द्वारका जिले में मूसलाधार बारिश के कारण जमरावल गांव में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई है. वर्तुल डैम के 16 गेट 6 फीट तक खोल दिए गए है.

गेट खोलने की वजह से जाम रावल गांव में पानी भर गया है. खेत और लोगों के घरों में 3 से 4 फीट पानी भर गया है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पांच साल बाद हमीरसर तालाब ओवरफ्लो, सरकारी दफ्तरों में सार्वजनिक अवकाश