Gujarat Exclusive > गुजरात > गुजरात के वडनगर में आयोजित होने वाले ताना-रीरी महोत्सव पर लगा कोरोना का ग्रहण

गुजरात के वडनगर में आयोजित होने वाले ताना-रीरी महोत्सव पर लगा कोरोना का ग्रहण

0
345

मेहसाणा: वडनगर में हर साल आयोजित होने वाली ताना-रीरी महोत्सव पर भी कोरोना ग्रहण लग गया है. गुजरात में बढ़ते कोरोना कहर के बीच दो दिवसीय इस महोत्सव को एक दिन का कर दिया गया है.

कोरोना पर काबू पाने के लिए सरकारी दिशा-निर्देशों का पालन करने की अपील की जा रही है.

लेकिन लोग नियमों का पालन नहीं करते इसलिए इस साल दो दिवसीय इस महोत्सव को एक दिन का कर दिया गया है. Gujarat Tana-Riari Festival

ताना-रीरी महोत्सव पर लगा कोरोना का ग्रहण Gujarat Tana-Riari Festival

कोरोना संकटकाल में आयोजित होने वाले ताना-रीरी महोत्सव का लोग आनंद ले सकें इसके लिए विशेष व्यवस्था की गई है.

ताकि लोग सोशल मीडिया और केबल नेटवर्क के माध्यम से इसे अपने घरों पर देख सकें. इस साल ताना-रीरी महोत्सव 2020 में राष्ट्रीय स्तर के कलाकार भाग लेंगे और शास्त्रीय संगीत समारोह का आयोजन किया जाएगा.

यह भी पढ़ें: सिविल अस्पताल पहुंचे नितिन पटेल, गुजरात में कोरोना के नए मामलों में भारी वृद्धि

इस साल 24 नवंबर को मेहसाणा जिला के वडनगर में ताना-रीरी महोत्सव का आयोजन किया जाएगा. जिसमें शास्त्रीय उत्सव में विभिन्न कलाकार और कला संस्थान से जुड़े लोग मौजूद रहेंगे.

इसके अलावा इस दिन नागर ब्राह्मण मौजूद भी रहने वाले हैं. इसी दिन ताना-रीरी संगीत सम्मान पुरस्कार का भी आयोजन किया जाएगा.

इसी दिन गणमान्य लोगों द्वारा संगीत महाविद्यालय का उद्घाटन भी किया जाएगा. Gujarat Tana-Riari Festival

2003 से शुरू हुआ है ताना-रीरी महोत्सव

गुजरात मशहूर कवि नरसिंह मेहता की बेटी की बेटी शर्मिष्ठा की बेटियां ताना-रीरी की याद में 2003 से वडनगर में दो दिवसीय ताना-रीरी महोत्सव का आयोजन गुजरात राज्य संगीत नाटक अकादमी और महेसाणा जिला प्रशासन द्वारा आयोजित किया जाता है. Gujarat Tana-Riari Festival

पिछले साल 108 बांसुरी वादकों ने 5 मिनट में दो धुनें बजा कर नया रिकॉर्ड बनाया था. इतना ही नहीं ताना-रीरी महोत्सव में एक ही दिन में तीन वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाए गए थे.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

गुजरात आ रहे CRPF जवान की संदिग्ध मौत, रेलवे ट्रैक पर मिला शव